विश्व मलेरिया दिवस पर आरोह फाउंडेशन ने व्यापक स्तर पर चलाया जागरूकता अभियान

  |    April 25th, 2019   |   0

नई दिल्ली(भारती सैनी)- समाजसेवी संस्थान आरोह फाउंडेशन ने विश्व मलेरिया दिवस पर देश के विभिन हिस्सों में जागरूकता अभियान का आयोजन किया। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा मलेरिया के निवारण हेतु 25 अप्रैल को विश्व मलेरिया दिवस घोषित किया गया है। मलेरिया एक जानलेवा बीमारी है और पिछले दशक में इससे हुई मृत्यु के आकड़े दर्शाते हैं की विश्व के कई हिस्सों में इसके निवारण के प्रयासों में भीषण कमी है। जागरूकता अभियान का उद्देश्य देश में मलेरिया एवं इसके कारण हो रही क्षति की रोकथाम था।

आरोह के इस अभियान के तहत राजधानी दिल्ली के विभिन्न हिस्सों में एंटी मलेरिया स्वच्छता ड्राइव आयोजित किये गए। समाज में जागरूकता फ़ैलाने के लिए नुक्कड़ नाटकों और बाल सभाओं का आयोजन किया गया। आरोह फाउंडेशन के स्वयंसेवकों ने नुक्कड़ नाटकों द्वारा लोगों तक मलेरिया के कारण और उससे बचाव के उपायों को दर्शाया गया। वहीँ बाल सभाओं में बच्चों को जागरूक करने के लिए मलेरिया के मूल कारण मच्छरों व उनके प्रजनन के स्रोत बारे में सूचना दी गयी। बच्चों की उत्सुकता को मद्देनज़र रखते हुए रोचक तरीके से इस बीमारी के लक्षणों पर चर्चा की गई।

मलेरिया दिवस के मद्देनज़र आयोजित किये गए कार्यक्रमों के बारे में बात करते हुए संस्था की संस्थापक डॉ नीलम गुप्ता ने कहा, “आरोह इस तरह की जागरूकता फ़ैलाने वाली गतिविधियाँ करता रहा है और निरंतर करता रहेगा| हम लोगों से निवेदन करते हैं की वो अपने आसपास सफाई का ध्यान रखें, गन्दा पानी न जमा होने दें, इन सबसे मच्छरों के प्रजनन में वृद्धि होती है और मलेरिया के बढ़ने का खतरा रहता है।”

राजधानी के अलावा उत्तर प्रदेश राज्य के कई जिलों, बिहार व ओड़िशा में फाउंडेशन द्वारा जागरूकता फ़ैलाने के लिए कार्यशालाओं का आयोजन किया गया। उत्तर प्रदेश राज्य के बुलंदशहर, बदाऊँ व फिरोजाबाद जिलों में आयोजित कार्यशालाओं में सैकड़ों लोगों ने शिरकत की| कार्यशाला का संचालन कर रहे फाउंडेशन के स्वयंसेवकों ने उपस्थित जनसमूह को इस घातक बीमारी के विभिन्न पहलुओं की जानकारी दी। इसके अलावा छत्तीसगढ़ राज्य के रायगढ़, बिलासपुर (ब्लाक तखतपुर, खरसिया व तमनार) के अलावा मेघालय के सुदूर ग्रामीण इलाकों में रैलीयां आयोजित की गयी और चिकित्सकों द्वारा जागरूकता फ़ैलाने का कार्य किया गया।