गोवा में उर्दू भाषा को उचित स्थान दिलाने के लिए उर्दू परिषद के निदेशक और गोवा के शिक्षा सचिव बीच हुई बातचीत

  |    December 7th, 2019   |   0

पणजी(समाचार डेस्क)- राष्ट्रीय उर्दू भाषा विकास परिषद के निदेशक डॉ.शेख अकील अहमद ने हाल ही में गोवा की यात्रा के दौरान मुख्य सचिव तथा शिक्षा सचिव श्रीमति नीला मोहनन से मुलाकात की और राज्य में उर्दू की स्थिति और उर्दू शिक्षा और प्रशिक्षण क्षेत्र की बाधाओं और संभावनाओं पर उनसे चर्चा की।

इस परिचर्चा के दौरान जिन प्रमुख बिंदुओं पर चर्चा की गई, वे उर्दू शिक्षा को पांचवीं कक्षा से ऊपर की कक्षाओं में एक विषय के रूप में आरंभ करने, स्कूलों के पाठ्यक्रम में उर्दू विषय को शामिल नहीं करने  और पिछले सात वर्षों से जिला विद्यालय निरीक्षक द्वारा स्कूलों का निरीक्षण नहीं करने आदि थे।

इसके अलावा, विभिन्न स्कूलों के प्रतिनिधियों ने यह भी पाया कि उर्दू पाठ्यपुस्तकों को समय पर प्रदान नहीं किया जाता है। नियोजित उर्दू शिक्षकों के लिए कोई उचित प्रशिक्षण प्रणाली नहीं है, जिससे उनके शिक्षण कौशल में सुधार हो सके। डॉ। अकील अहमद ने शिक्षा सचिव से आग्रह किया कि वे विशेष रूप से उर्दू माध्यम के स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने की दिशा में प्रयास करें, ताकि राज्य में उर्दू भाषा का विकास होसके जो की हमारी गंगा जमनी संस्कृति की प्रतीक है।

उन्होंने यह भी कहा कि उर्दूभाषा को राज्य में फैलाने के लिए एक उर्दू अकादमी स्थापित की जानी चाहिए ताकि केंद्र सरकार द्वारा उर्दू भाषा के प्रचार के लिए चलाई जा रही योजनाओं को राज्य में लागू किया जा सके। नेशनल उर्दू काउंसिल के निदेशक ने कहा कि गोवा में राज्य में अल्पसंख्यक आबादी भी है, इसलिए अल्पसंख्यक आबादी के सरकारी स्कूलों में तीसरी भाषा के रूप में उर्दू सिखाने के लिए प्रबंध किया जाना चाहिए।

चर्चा के दौरान श्रीमति नीला मोहनन ने कहा की हम राष्ट्रीय उर्दू भाषा विकास परिषद के साथ उर्दू के विकास के लिए एक एम ओ यू पर हस्ताक्षर करेंगे ताकि राज्य में उर्दू को उचित स्थान मिल सके। राज्य सरकार द्वारा कराए जाने वाले कार्यक्रमों में भी परिषद के द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम के आयोजन कराने का भी निवेदन किया गया है। शिक्षा सचिव ने भरोसा दिलाया कि गोवा में प्राथमिक स्तर पर जितने भी सरकारी और गैर सरकारी स्कूल हैं उन सब में उर्दू को तीसरी भाषा के तौर पर पढ़ाया जाएगा। उर्दू परिषद के निदेशक शेख अकील अहमद ने कहा कि उर्दू परिषद पाठ्यपुस्तकों के प्रकाशन में गोवा सरकार का सहयोग करेगी।