यूपी के प्राथमिक विद्यालयों के अध्यापकों ने मुनि स्कूल में लिया प्रशिक्षण

  |    January 22nd, 2019   |   0

नई दिल्ली – यूपी में चंदौली जिले के विभिन्न प्राथमिक विद्यालयों से आए 15 अध्यापकों व शिक्षा सहयोगियों ने दिल्ली के मोहन गार्डन स्थित मुनि इंटरनेशनल स्कूल में दो दिवसीय प्रशिक्षण लिया। प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य मुनि स्कूल के शिक्षा मॉडल को समझ कर अपने स्कूलों में पढ़ रहे छात्रों को बेहतर शिक्षा देना है। ताकि ग्रामीणआंचल के छात्रों को भी महानगरों जैसी गुणवत्ता वाली शिक्षा मिल सके।

प्रशिक्षण के बाद अध्यापकों ने बताया कि मुनि स्कूल में जो कुछ देख, समझा वो हमारे लिए एक दम नया और अद्भुत है, इस प्रकार के स्कूल व शिक्षा मॉडल को समझने पर पता चलाकि यहां के बच्चे अन्य स्कूलों से कैसे बेहतर हैं। और हम अपने स्कूलों के छात्रों को किस प्रकार बेहतर शिक्षा देंने के लिए काम करें।

स्कूल संस्थापक डॉ. अशोक कुमार ठाकुर ने अध्यापकों को दो दिन तक प्रशिक्षण दिया। मुनि स्कूल में किए नवाचारों के बारे में बताया और समझाया कि वो किस प्रकार सरल माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र के छात्रों को अंग्रेजी पढ़ना और लिखना सिखा सकते हैं। इसके साथ ही उन्होंने अध्यापकों से कहा कि वो वेल्यू एजुकेशन को बढ़ावा दें और छात्रों की स्किल को पहचाने। छात्रों डरा-धमका कर कभी न पढ़ाएं बल्कि उन्हें खेल-खेल में पढ़ना सिखाएं।

प्रशिक्षण पर आए अध्यापकों को स्कूल संस्थापक डॉ. अशोक कुमार ठाकुर ने समझाया कि वो अपनी नकारात्म सोच छोड़े और सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ें।

ध्यान रहे कि ये सभी अध्यापक एचडीएफसी बैंक के परिवर्तन अंतर्गत यूपी के विभिन्न जिलों में चलाई जा रही ग्राम समृद्धि योजना के तहत मुनि स्कूल में प्रशिक्षण के लिए आए। प्रशिक्षण पर आए अध्यापकों के लिए श्रमिक भारती समाजिक संस्था ने भी भरपूर सहयोग दिया। श्रमिक भारती समाजिक संस्था की वंदना पटेल ने बताया कि वो ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालयों में ही शिक्षा गुणवत्ता सुधार केलिए कार्य करती हैं। वहीं एचडीएफसी बैंक के प्रॉजेक्ट पर काम कर रहे श्रीकेश कुमार के अनुसार एचडीएफसी बैंक के परिवर्तन अंतर्गत यूपी के शासकिय प्राथमिक विद्यालयों, अर्ध-शासकिय उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों को रूचिकर गुणवत्तापरक शिक्षण-प्रशिक्षण एक्पॉजर देने के लिए इस खास विजिट का आयोजन किया गया था।