विश्‍वविद्यालय विद्यार्थियों की प्रतिभाओं को उँचाई प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध : प्रो. गिरीश्‍वर मिश्र

  |    August 31st, 2018   |   0

हिंदी विश्‍वविद्यालय में नव प्रवेशित विद्यार्थियों के लिए अभिविन्‍यास कार्यक्रम

वर्धा(सममाचार डेस्क) – महात्‍मा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय हिंदी विश्‍वविद्यालय के कुलपति प्रो. गिरीश्‍वर मिश्र ने विश्‍वविद्यालय में नव प्रवेशित विद्यार्थियों के लिए आयोजित अभिविन्‍यास कार्यक्रम में कहा कि विद्यार्थियों की प्रतिभाओं को उँचाई प्रदान करने के लिए विश्‍वविद्यालय प्रतिबद्ध है। उन्‍होंने विद्यार्थियों से आहवान किया कि विश्‍वविद्यालय द्वारा प्रदत्‍त सभी सुविधाओं का लाभ लेकर अपने-आप को अधिक ज्ञान और गुण सम्‍पन्‍न बनाएं। उन्‍होंने कहा कि संपूर्ण व्‍यक्तित्‍व के विकास के अभियान में शामिल होकर जीवन में अपना स्‍थान बनाना चाहिए।विश्‍वविद्यालय के आंतरिक गुणवत्‍ता आश्‍वासन प्रकोष्‍ठ की ओर से गुरुवार, 30 अगस्‍त को अभिविन्‍यास कार्यक्रम आयोजित किया गया। समारोह की अध्‍यक्षता कुलपति प्रो. गिरीश्‍वर मिश्र ने की।

कार्यक्रम में आंतरिक गुणवत्‍ता आश्‍वासन प्रकोष्‍ठ की समन्‍वयक डॉ. शोभा पालीवाल, कुलानुशासक प्रो. गोपाल ठाकुर, पुस्‍तकालय अध्‍यक्ष डॉ. मैत्रेयी घोष, छात्रावास अधीक्षक डॉ. धरवेश कठेरिया, डॉ. अवंतिका शुक्‍ला, डॉ. सुहासिनी वाजपेयी, डॉ. भरत पण्‍डा, ऋषभ कुमार मिश्र मंचपर उपस्थित थे। कुलपति प्रो. मिश्र ने नव प्रवेशित विद्यार्थियों का स्‍वागत करते हुए कहा कि हमें अपनी क्षमता, शक्ति, बुद्धि और कौशल का उपयोग करना चाहिए ताकि आप जीवन में सफल हो सकें। विश्‍वविद्यालय में उपलब्‍ध पुस्‍तकालय, वाई-फाई, कम्‍यूटर प्रयोगशाला आदि सुविधाओं का अधिक से अधिेक उपयोग करें। वर्तमान समय में तकनीक का काफी महत्‍व है और इसे देखते हुए विश्‍वविद्यालय में सुविधाएं भी उपलब्‍ध करा दी गयी है, आप इसका भी पूरा-पूरा लाभ लें। उन्‍होंने जानकारी देते हुए कहा कि छात्राओं के लिए नए छात्रावास बनाने को केंद्र सरकार की मान्‍यता मिल चुकी है तथा इसके निर्माण का कार्य जल्द ही शुरू किया जाएगा।

कार्यक्रम का संचालन डॉ. शोभा पालीवाल ने किया। उन्‍होंने विश्‍वविद्यालय का परिचय देते हुए विभिन्‍न सुविधाओं की जानकारी प्रदान की। इस अवसर पर कुलानुशासक ने विश्‍वविद्यालय की रीति-नीति एवं नियमों से परिचित करया। विभिन्‍न छात्रवास के अधीक्षकों ने भी विद्यार्थियों से संवाद किया एवं अपने विचार व्‍यक्‍त किए। कार्यक्रम के अंत में विद्यार्थियों को विश्‍वविद्यालय पर निर्मित फिल्‍म दिखाई गई।