केन्द्रीय गृह मंत्री ने यू.पी में किया 65 हजार करोड़ की लागत से तैयार होने वाली 250 से अधिक परियोजनाओं का शिलान्यास

  |    July 28th, 2019   |   0

जी.बी.सी.-2 की परियोजनाओं के पूरा होने पर  राज्य के 3 लाख युवाओं को रोजगार मिलने की सम्भावना

लखनऊ: 28 जुलाई, 2019 : केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश को देश का सर्वाेत्तम राज्य बनाने का विश्वास जनता के मन में जगाया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के प्रयासों से आज उत्तर प्रदेश की तस्वीर बदल गयी है और बड़े पैमाने पर यहां पूंजी निवेश सम्भव हो रहा है। मुख्यमंत्री के नेतृत्व में बहुत ही कम समय में फरवरी, 2018 में प्रदेश में इन्वेस्टर्स समिट का सफल आयोजन तो हुआ ही, साथ ही इसके 5 महीने के अन्दर 60,000 करोड़ रुपये की लागत की 81 परियोजनाओं का शिलान्यास (जी0बी0सी0-1) भी पिछले वर्ष जुलाई माह में प्रधानमंत्री जी द्वारा किया गया। उन्होंने कहा कि आज 65,000 करोड़ रुपये की लागत वाली 250 से अधिक परियोजनाओं का शिलान्यास (ग्राउण्ड ब्रेकिंग सेरेमनी-2) करते हुए उन्हें अपार हर्ष हो रहा है।

गृह मंत्री आज यहां इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित ग्राउण्ड ब्रेकिंग सेरेमनी-2 के उद्घाटन सत्र को मुख्य अतिथि के रूप में सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा वर्ष 2014 से 2019 के बीच देश को 5 ट्रिलियन डाॅलर इकाॅनमी बनाने की नींव रखी जा चुकी है। अब मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश एक ट्रिलियन डाॅलर इकाॅनमी बनने के पथ पर अग्रसर है। आज की जी0बी0सी0-2 इस बात की द्योतक है। केन्द्र सरकार उत्तर प्रदेश के विकास के लिए प्रतिबद्ध है। प्रधानमंत्री जी द्वारा 14वें वित्त आयोग के तहत उत्तर प्रदेश का आवंटन 3 लाख 30 हजार करोड़ रुपये से बढ़ाकर 8 लाख 80 हजार करोड़ रुपये कर दिया गया है।

केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि फरवरी, 2018 में आयोजित इन्वेस्टर्स समिट में जब उत्तर प्रदेश में निवेश के लिए 4 लाख 68 हजार करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव मिले, तब यहां पर एक नयी शुरुआत हुई। राज्य में नये सिरे से निवेश के क्षेत्र में कार्य शुरू हुआ। मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश को कम समय में योजनाओं को साकार करने में सफलता मिली है। इससे विकास में तेजी आयी है।
केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में देश तेजी से आगे बढ़ रहा है। भारतीय अर्थव्यवस्था में लगातार सुधार हो रहा है। पिछले 5 सालों में उनके प्रयासों से आज देश की अर्थव्यवस्था विश्व में 11वें स्थान से 5वें स्थान पर आ गयी है। उन्होंने विश्वास व्यक्त करते हुए कहा कि अगले 5 वर्षाें में भारत की अर्थव्यवस्था विश्व की तीसरे नम्बर की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होगी। पिछले 5 साल के अन्दर विश्व बैंक की ‘ईज़ आॅफ डूइंग बिज़नेस’ की तालिका में देश 142वें स्थान से 77वें स्थान पर पहुंच गया है। इसी प्रकार, जहां बिजली उत्पादन में देश 99वें स्थान पर था अब 26वें स्थान पर आ गया है।
गृह मंत्री, भारत सरकार ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने सर्व समावेशी विकास का माॅडल देश के सामने रखा, जिसका देश की जनता ने पूरा समर्थन दिया। प्रधानमंत्री जी खुले आंखों से सपने देखते हैं, जिन्हें वे पूरा भी करते हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री जी प्रधानमंत्री जी के सपनों को पूरा करने के लिए निरन्तर प्रयासरत हैं और इसके लिए वे सभी कार्य त्वरित गति से कर रहे हैं। प्रधानमंत्री जी के प्रयासों से पिछले 5 वर्षाें में एग्रीकल्चर ग्रोथ रेट आगे बढ़ा है। इसी प्रकार, इंट्रेस्ट रेट में 28 प्रतिशत की कमी आयी है। फिस्कल डेफिसिट में भी कमी आयी है। देश के लोगों की आय बढ़ी है। आज आयकर भरने वालों की संख्या में काफी इज़ाफा हुआ है। पहले मात्र 3 करोड़ 80 लाख लोग ही इनकम टैक्स भरते थे, लेकिन आज 6 करोड़ 70 लाख लोग इनकम टैक्स जमा कर रहे हैं।
केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में जहां एक ओर देश का विदेशी मुद्रा भण्डार बढ़ा है, वहीं दूसरी ओर ग्राॅस टैक्स में राज्यों की भागीदारी बढ़ायी गयी है। जी0एस0टी0 का सफल क्रियान्वयन किया गया है। राज्यों में प्रतिस्पर्धा बढ़ी है, जिसके सुखद परिणाम मिल रहे हैं। उन्होंने कहा कि वर्ष 2013 में उन्हें उत्तर प्रदेश से जुड़ने का अवसर मिला था। उस समय प्रदेश की स्थिति देखकर बहुत दुःख होता था। वर्ष 2017 में योगी आदित्यनाथ जी अपनी निष्ठा और कार्य करने की क्षमता के आधार पर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। उनके मुख्यमंत्री बनने के बाद से प्रदेश में बहुत परिवर्तन आया है। आज प्रदेश में तेजी से विकास हो रहा है।

अवस्थापना, बिजली, शिक्षा, सड़क निर्माण, डेयरी, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, उद्योग इत्यादि सेक्टरों में व्यापक कार्य किया जा रहा है। ओ0डी0ओ0पी0 योजना के माध्यम से प्रदेश के 75 जनपदों में छोटे हस्तशिल्पियों को रोजगार के बड़े अवसर उपलब्ध कराये गये हैं।
केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने प्रदेश की कानून-व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त बनाते हुए प्रदेश के औद्योगिक निवेश वातावरण में व्यापक सुधार सुनिश्चित किया है, जिसके कारण आज इतना बड़ा निवेश सम्भव हो सका है। उद्यमियों की सुविधा के लिए राज्य सरकार द्वारा निवेश मित्र जैसा सिंगल विण्डो सिस्टम लागू किया गया है। अब उद्यमियों को अपनी समस्याओं के समाधान के लिए इधर-उधर भटकना नहीं पड़ता। फैक्ट्री लाइसेंस 10 वर्ष के लिए जारी होते हैं, जबकि राज्य सरकार द्वारा उद्योगों की सुविधा के लिए अलग से आर्थिक/वाणिज्यिक न्यायालय स्थापित किये गये हैं। 
इसके अलावा, राज्य में लेबर कानून का सरलीकरण भी किया गया है। फोकस सेक्टर्स भी तय किये गये हैं। इनमें बैंकिंग, इलेक्ट्रिक मोबिलिटी, अवस्थापना सुविधा विकास, फार्मा इत्यादि शामिल हैं। आने वाले दिनों में उत्तर प्रदेश में चमत्कारिक परिवर्तन देखने को मिलेंगे। जिस प्रकार यह माना जाता था कि देश का प्रधानमंत्री बनने का रास्ता लखनऊ से होकर जाता है, उसी प्रकार अब यह मानना होगा कि देश को 5 ट्रिलियन इकाॅनमी बनाने का रास्ता भी लखनऊ से होकर जाता है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि उत्तर प्रदेश सरकार उद्यमियों की हर सम्भव सहायता करेगी। उन्होंने उद्यमियों को उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने के लिए यहां और अधिक निवेश करने का आह्वान किया।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि उत्तर प्रदेश के निवेश माहौल में सकारात्मक परिवर्तन हो चुका है। पूर्व में,प्रदेश का माहौल निवेश योग्य नहीं था। पिछले दो सालों में राज्य सरकार ने सख्ती से संगठित अपराध को खत्म किया है। कानून-व्यवस्था में व्यापक सुधार हो चुका है और उद्यमियों का विश्वास जागृत हो गया है, जिसके कारण आज इतना बड़ा निवेश उत्तर प्रदेश में सम्भव हो सका है।
इस अवसर पर अपने विचार व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि आज की जी0बी0सी0-2 राज्य के लिए अत्यन्त महत्वपूर्ण है। हमारा उद्देश्य उत्तर प्रदेश में विकास को गति प्रदान करना है, जिससे हर नागरिक, हर वर्ग, शोषितों और वंचितों का सर्वांगीण विकास हो सके। उन्होंने कहा कि आज आयोजित इस जी0बी0सी0-2 में 65,000 करोड़ रुपये की लागत से 250 से अधिक परियोजनाओं का शिलान्यास किया जा रहा है, जो हर्ष का विषय है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी तथा केन्द्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह जी के मार्गदर्शन में राज्य तेजी से आगे बढ़ रहा है। जी0बी0सी0-2 की परियोजनाओं के पूरा होने पर राज्य के 3 लाख युवाओं को रोजगार मिलने की सम्भावना है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष उत्तर प्रदेश के निर्यात में 28 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जो अब तक की सर्वाधिक है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उद्योगों की स्थापना से लेकर संचालन तक तथा निवेशकों को सूचनाओं के आदान-प्रदान में पारदर्शिता के मामले में भी उत्तर प्रदेश देश का अग्रणी राज्य है। प्रदेश सूक्ष्म, मध्यम और लघु उद्योगों की स्थापना में पहले स्थान है। इन उद्योगों की स्थापना से प्रदेश में न केवल आर्थिक समृद्धि आएगी, बल्कि रोजगार के नये अवसर भी सृजित होंगे। उत्तर प्रदेश ईज़ आॅफ डुइंग बिज़नेस के मामले में अचीवर स्टेट की सूची में शामिल हो गया है। प्रदेश लगातार उपलब्धियों के नये-नये कीर्तिमान स्थापित कर रहा है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि भविष्य में उत्तर प्रदेश देश की आर्थिक रीढ़ बनकर उभरेगा।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उत्तर प्रदेश आॅनलाइन सिंगल विण्डो सिस्टम देने वाले शीर्ष 5 राज्यों में शामिल है। ‘निवेश मित्र प्रदेश’ के रूप में राज्य की पहचान बन रही है। आने वाले समय में उत्तर प्रदेश उद्योगों की स्थापना के साथ विकास के निरन्तर नये आयाम स्थापित करने की ओर अग्रसर होगा। ‘ईज़ आॅफ़ डुइंग बिज़नेस’ रैंकिंग में उत्तर प्रदेश शीर्ष 5 राज्यों में से एक है। कर भुगतान प्रक्रिया में सरलीकरण का प्रावधान कर उत्तर प्रदेश सरकार व्यापारियों को और बड़े व्यावसायिक प्रतिष्ठानों को सहूलियत दे रही है, जिससे उन्हें व्यापार संचालन में कोई समस्या न आये। उद्योगों की स्थापना हेतु व्यावसायिक भूमि का आवंटन कर संस्थानों को उपलब्ध कराने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार पूरी तरह से सहयोग कर रही है। राज्य सरकार द्वारा उद्यमियों की सहायता के लिए कई सेक्टोरल नीतियां लागू की गयी हैं। इसी क्रम में, तीन और नीतियों पर कार्य चल रहा है, जिन्हें शीघ्र ही लागू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में सभी निवेशकों का स्वागत है। राज्य सरकार उद्योग स्थापना में उनकी हर सम्भव मदद तत्परता से करने के लिए कटिबद्ध है।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए औद्योगिक विकास मंत्री श्री सतीश महाना जी ने कहा कि मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में निवेश का माहौल बना है। कानून-व्यवस्था में व्यापक सुधार के चलते अब उद्यमी आश्वस्त महसूस कर रहे हैं, जिसके कारण आज इतना बड़ा निवेश सम्भव हो रहा है। राज्य सरकार उद्यमियों की समस्याओं का त्वरित निदान सुनिश्चित कर रही है। ‘निवेश मित्र’ की स्थापना से उद्यमियों की समस्याओं का समाधान किया जा रहा है। अब तक 21 सेक्टोरल पाॅलिसीज़ बन चुकी हैं। राज्य सरकार को बड़े पैमाने पर निवेश प्रस्ताव मिले, जिसका निस्तारण किया गया है। अवस्थापना विकास के सन्दर्भ में उत्तर प्रदेश आज देश का अग्रणी राज्य है। उन्होंने कहा कि जेवर एयरपोर्ट की स्थापना के उपरान्त प्रदेश के उद्योग नई उड़ान भरेंगे।
कार्यक्रम को सुप्रसिद्ध उद्यमियों टाटा सन्स के अध्यक्ष श्री एन0 चन्द्र शेखरन, सैमसंग इण्डिया के सी0ई0ओ0 श्री एच0सी0 हांग, फिक्की चेयरमैन श्री संदीप सोमानी, टाॅरेण्ट ग्रुप के अध्यक्ष श्री सुधीर मेहता, अडानी ग्रुप के अध्यक्ष श्री गौतम अडानी, पेप्सिको के सी0ई0ओ0 श्री अहमद अल-शेख इत्यादि ने भी सम्बोधित किया।  
कार्यक्रम के अन्त में मुख्य सचिव डाॅ0 अनूप चन्द्र पाण्डेय ने सभी अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापित किया। उन्होंने केन्द्रीय गृह मंत्री का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि राज्य सरकार प्रदेश चहुंमुखी विकास के लिए तत्पर है। 
इससे पूर्व, कार्यक्रम का उद्घाटन दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। केन्द्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह जी द्वारा जी0बी0सी0-2 के तहत 65,000 करोड़ रुपये की लागत वाली 250 से अधिक परियोजनाओं का डिजिटल उद्घाटन भी किया गया। मुख्यमंत्री जी द्वारा मुख्य अतिथि श्री अमित शाह जी को गणेश जी की प्रतिमा प्रतीकस्वरूप भेंट की गयी।
इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य एवं डाॅ0 दिनेश शर्मा सहित उत्तर प्रदेश मंत्रिमण्डल के मंत्रिगण, शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी, बड़ी संख्या में उद्यमी, निवेशक तथा अन्य गणमान्य नागरिक मौजूद थे।