फुटबाल अंडर-17 विश्व कप भारत में नई सुबह लेकर आएगा

  |    October 5th, 2017   |   0

मुंबई (खेल डेस्क)- भारत की मेजबानी में शुरू हो रहा फीफा अंडर-17 विश्व कप खेल के लिए उत्प्रेरक साबित होगा, अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ का मानना है कि यह शुरूआत भारत जैसे सोते हुए विशाल देश को जगा देगी। 

मुंबई सिटी फुटबाल क्लब द्वारा जमीनी स्तर पर खेल के विकास को लेकर आयोजित कराई गई चर्चा में भारत के शीर्ष फुटबाल प्रशासकों ने खेल को लेकर अपने देश के अच्छे भविष्य पर भरोसा जताया।  इस कार्यक्रम में इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, ब्राजील के प्रशिक्षकों को मैनेजरों ने अपने-अपने देश के फुटबाल विकास कार्यक्रम के बारे में जानकारी दी।

एआईएफएफ के सचिव कुशल दास ने कहा, ‘‘पिछले तीन साल से हमने इस अंडर-17 विश्व कप के लिए काफी मेहनत की है। भारतीय फुटबाल आने वाले समय में होने वाली अच्छी चीजों की दहलीज पर खड़ा है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘छह अक्टूबर 2017, रात के आठ बजे जब हमारी भारतीय टीम अपना पहला विश्व कप मैच खेलेगी वो हमारे लिए बहुत बड़ा पर्व होगा।  उम्मीद है, उस पल से भारतीय फुटबाल में नए युग की शुरुआत भी होगी।’’

एआईएफएफ के तकनीकि निदेशक सावियो मेडिएरा ने इस मौके पर कहा, ‘‘हम हो सकता है तकनीक और तकनीकि दक्षता में पीछे हों, लेकिन हमारे खिलाड़ी शारीरिक तौर पर, फिटनेस के मामले में बाकी दुनिया से बराबरी पर हैं। वह मैदान पर अपनी पूरी जान लगा देंगे और हमें गर्व करने का मौका देंगे।’’

शीर्ष कोच और एआईएफएफ की तकनीकि समिति के ड्यूपिटी चेयरमैन हेनरी मेंजेस भी अपनी टीम द्वारा बेहतरीन प्रदर्शन से सभी को हैरान करने की बात पर सकारात्मक दिखे।

उन्होंने कहा, ‘‘अंडर-17 टीम वाकई में भाग्याशाली है। इसे बाकी की भारतीय टीम से कई ज्यादा विश्व भर में खेलने का मौैका मिला है। यह अगली पीढ़ी के अच्छे खिलाड़ियों के लिए यह समूह सर्वश्रेष्ठ है। मेजबानी मिलने के कारण और पूरे देश के समर्थन के बाद मुझे लगता है कि यह टीम सभी को हैरान कर देगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अगर ऐसा होता है तो यह देश में फुटबाल का भविष्य बदल देगी।’’

मुंबई सिटी एफसी का यह कार्यक्रम देश के फुटबाल के वार्षिक कैलेंडर का अहम हिस्सा है। जहां देश के और राज्यों के शीर्ष प्रशासक एकत्रित होते हैं और जमीनी स्तर पर खेल के विकास की योजन पर चर्चा करते हैं।कुशल दास ने कहा, ‘‘अगर हम सभी मिलकर काम करें तो हम जमीनी स्तर पर लंबे समय तक चलने वाले विकास कार्यक्रम चला सकते हैं।

इससे हमें सिर्फ एशियाई स्तर पर ही नहीं बल्कि विश्व स्तर पर अपना निशान छोड़ने के लिए पांच-सात साल का समय लगेगा। अच्छी बात है कि अब खेल में पैसा आ रहा है और सरकार के मिशन इलेवन मिलियन कार्यक्रम से काफी फायदा हुआ है।’’

ब्राजील अंडर-17 टीम के मुख्य कोच कार्लोस एमाडेयु और मैनेजर राउल फाचिनी, इंग्लैंड की अंडर-17 विश्व कप टीम के मैनेजर नील डीयूसनिप और न्यूजीलैंड की अंडर-17 टीम के मैनेजर सिमोन हिल्टन ने इस कार्यक्रम में अपने-अपने देशों में जमीनी स्तर पर चलाए जा रहे विकास कार्यक्रम के बारे में बताया।

मुंबई सिटी के युवा एवं जमीनी स्तर पर विकास कार्यक्रम के मुखिया दिनेश नायर ने इस मौके पर क्लब द्वारा अभी तक तय किए गए सफर के बारे में जानकारी भी दी। साथ ही आने वाले सीजन के लिए अपनी रणनीति के बारे में बताया। क्लब को इंडियन सुपर लीग में दो बार जमीनी स्तर पर चलाए जाने वाले सर्वश्रेष्ठ कार्यक्रम का पुरस्कार मिल चुका है।

एआईएफएफ अंडर-17 टीम के अच्छे भविष्य के बारे में सिर्फ विश्व कप तक ही सीमित नहीं रहेगा वह इसे आगे भी इसके लिए काम करेगा।

मेंजेस ने कहा, ‘‘हमने फैसला किया है कि हम इस टीम को अंडर-20 विश्व कप के लिए भी तैयार करेंगे। हम विश्व कप के बाद भी इस टीम को एक साथ रखेंगे। साथ ही इसमें अंडर-19 टीम के खिलाड़ियों को भी शामिल करेंगे और उन्हें 2019 में होने वाले विश्व कप क्वालीफायर के लिए तैयार करेंगे।’’