टेबल टेनिस मैराथन : सुधांशु ग्रोवर ने जीता प्रथम भारतीय टेबल टेनिस मैराथन खिताब-2019

  |    May 10th, 2019   |   0

टेबल टेनिस में भारत ने बनाया रिकार्ड पहली टेबल टेनिस मैराथन में खेले 5 हजार खिलाड़ी

नई दिल्ली (राजेश शर्मा)- टेबल टेनिस फाउंडेशन द्वारा 1 से 5 मई के बीच स्वरूप नगर स्थित संत सुजान सिंह इंटरनेशनल स्कूल में पहली टेबल टेनिस मैराथन का आयोजन किया गया। जिसमें 40 टेबल्स पर आयोजित टेनिस मैराथन में देश के 5 हजार खिलाड़ियों ने शिरकत की। एक टूर्नामेंट में खेलने वाले खिलाडियों ने चाइना के रिकार्ड को तोड़ गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड में अपना नाम दर्ज कराया। इस मैराथन में 7वर्ष से लेकर 80 वर्ष तक के खिलाङियों ने अपना शानदार प्रदर्शन किया। इस मौके पर इजिपट जैसे देश के विदेशी खिलाङियों ने मुकाबलों में शानदार प्रदर्शन किया वहीं वरिष्ठ नागरिकों ने भी कई दोस्ताना मुकाबले खेले।

अर्जुन अवार्डी व ओलंपियन सौम्यजीत घोष

टेनिस मैराथन में आकर्षण रहे अर्जुन अवार्डी व ओलंपियन रहे सौम्यजीत घोष को पछाङ कर सुधांशु ग्रोवर ने प्रथम भारतीय टेबल टेनिस मैराथन का खिताब जीत कर सब को चकित कर दिया। इस जीत से सुधांशु काफी खुश दिखे वहीं घोष के चेहरे पर हार का दु: ख साफ झलक रहा था।

आयोजकों के अनुसार इस विशाल मैराथन का उद्देश्य टेनिस के लिए नई प्रतिभाओं को खोजना तथा 2020 और 2024 के ओलंपिक की तैयारियों को तेज करना था।

इस मैराथन टूर्नामेंट का उद्घाटन ओएनजीसी निदेशिका डॉ. अलका मित्तल ने किया। वहीं समापन समारोह के दैरान विजेता खिलाङियों को पुरस्कृत करने के लिए टेबलटेनिस फाउंडेशन अध्यक्ष जिनेंद्र जैन, भारतीय टेनिस फेडरेशन के जनरल सेकेट्ररी एम.पी. सिंह सहित गणमान्य खिलाड़ी एवं अधिकारी मौजूद रहे।

उल्लेखनीय है कि गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड में नाम दर्ज कराने के लिए फाउंडेशन ने इस मैराथन प्रतियोगिता में मैंन्स-वूमेन वर्ग में अंडर-7 से उपर अंडर 70-80 तक की कैटेगरी निर्धारित की।

भारतीय टेनिस फेडरेशन के जनरल सेकेट्ररी एम.पी. सिंह ने कहाकि मैराथन सफल रही, खिलाडियों का उत्साह देखते ही बन रहा था। फेडरेशन खिलाड़ियों को और बेहतर सुविधाएं देने का प्रयास कर रही है, खेलों के श्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए स प्रकार के टूर्नामेंट भी समय-समय पर आयोजित किए जाएंगे।

फाउंडेशन अध्यक्ष जिनेंद्र जैन ने बताया कि फाउंडेशन की ओर से इसके विजेता खिलाड़ियों को बेहतर सुविधाएं प्रदान की गई ताकि उनको ओलंपिक के लिए तैयार करने में मदद मिले। ताकि अपने ही रिकार्ड को तोड़ने के लिए फिर तैयारी की जाएंगी। उन्होंने कहाकि मैराथन उम्मीद के मुताबिक काफी सफल रही।