देश के टॉप गोल्फरों में शामिल हुए उभरते युवा गोल्फर राघव चुघ

  |    December 8th, 2017   |   0

नई दिल्ली (राजेश शर्मा)- भारत में गोल्फ मजबूती से आगे बढ़ रहा है, इस खेल के माध्यम से कई खिलाङियों ने विश्व पटल पर भारत का नाम रोशन किया है।

लेकिन यहां हम बात कर रहे हैं दिल्ली के उभरते 14 वर्षिय युवा गोल्फर राघव चुघ कि , जिन्होंने हाल ही में गुरूग्राम में सम्पन्न हुई 9वीं अल्बाट्रॉस इंटरनेशनल जूनियर चैम्पियनशिप जीत कर “बी” वर्ग में देश के टॉप गोल्फ खिलाङियों की लिस्ट में अपना नाम दर्ज कराया। इतनी कम उम्र में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देश का प्रतिनिधित्व करने वाले राघव चुघ ने वर्ल्ड एम्येचोर गोल्फ रैंकिंग में भी जगह बनाली है।

श्रीराम स्कूल गुरूग्राम में 9वीं कक्षा के छात्र उभरते गोल्फर राघव ने इस वर्ष 6 टूर्नामेंट जीत कर अपनी प्रतिभा को साबित कर दिखाया। देश के राष्ट्रीय टूर्नामेंट का फाईनल मुबई में हुआ जिसमें राघव ने बाजी मारी। इससे पूर्व के शिलॉंग व अहमदाबाद में 15-17 वर्ष के युवाओं के बीच खेले गए टूर्नामेंट में “B” वर्ग के खिलाङी राघव ने “A” वर्ग के खिलाङियों को हराकर अपनी काबलियत का लौहा मनवाया।

राघव को गोल्फ में उभरता देख परिवार व दोस्तों की खुशी का ठिकाना नहीं है, राघव के अंदर छुपी प्रतिभा को तराशने में राघव के नाना विजय मेहता और उनके कोच रोमित बोस का अहम योगदान है।

राघव के कोच रोमित बोस ने बताया कि आज से तीन वर्ष पूर्व राघव के नाना उनको दिल्ली के कुतुब गोल्फ कोर्स अकेडमी लाए थे, तब से राघव हर वक्त अपना बेहतरी की तरफ ही बढ़ा है।

कोच रोमित बोस का मानना है कि राघव आने वाले कुछ ही समय में देश ही नहीं बल्कि विश्व के भी टॉप खिलाङियों की लिस्ट में अपना नाम दर्ज कराएगा।

राघव के नाना विजय मेहता ने बताया कि राघव इससे पहले स्कूल में क्रिकेट, बैडमिनंटन, फुटबॉल जैसे खेल खेलता था, लेकिन एक दिन मुझे अहसास हुआ कि यह लङ़का गोल्फ में और बेहतर कर सकता है, बस यही सोच कर इसको गोल्फ केडमी लाया और आज राघव ने साबित कर दिया है कि इसका असली खेल गोल्फ है।

राघव कुतुब गोल्फ कोर्स में अपने कोच रोमित बोस की देख रेख में रोजाना डेढ़ से दो घंटे प्रैक्टिस करता है, कोच द्वारा बातए दिशा-निर्देशों को बखूबी समझ कर खेल और पढाई दोनों में  तालमेल बनाते हुए दिन प्रति-दिन आगे बढ़ रहा है।