शारीरिक अक्षमता सफलता के रास्ते नहीं रोक सकती अक्षमता को ताकत बनाएं : विदिशा

  |    July 7th, 2019   |   0

नोएडा(संवाददाता)- अगर कुछ करने का और बनने का जज़्बा है तो शारीरिक अक्षमता भी आपके रास्ते नहीं रोक सकती, यह साबित करती है विदिशा बलियान जो 2019 में मिस डीफ इंडिया बनी और अपनी ज़िन्दगी का एक नया सफर शुरू किया। जिसमें साथ दिया व्हीलिंग हैप्पीनेस संस्था और मारवाह स्टूडियोज ने।

आज मुझे बहुत ख़ुशी है एशियन एकडेमी ऑफ़ फिल्म एंड टेलीविज़न ने हिंदुस्तान की तरफ से साउथ अफ्रीका में होने वाले फेस्टिवल मिस डीफ वर्ल्ड 2019 के लिए उन्हें तैयार किया है यह कहना था संदीप मारवाह का, जिन्होंने विदिशा का मारवाह स्टूडियो में स्वागत किया और उन्हें शुभकामनाएं दी। विदिशा ने कहा कि शुरू में मुझे बहुत घबराहट रहती थी यहाँ तक की स्कूल में मैं अंतर्मुखी छात्रा रही हूँ और कई परेशानियों से जूझते हुए मैं इस मुकाम पर पहुंची हूँ, मेरा मानना है की कोई भी बच्चा अपनी अक्षमता को अपनी ताकत बना कर आगे बढ़ सकता है, मैं राघव मारवाह का शुक्रिया करना चाहती हूँ जिन्होंने मेरी ग्रूमिंग की और मेरी खूबसूरत वीडियो शूट की। 

इस अवसर पर विदिशा को सहयोग करने वाली पूरी टीम दीपा मलिक इंटरनेशनल पैरा एथेलीट, देविका मलिक को- फाउंडर व्हीलिंग हैप्पीनेस, कोरियोग्राफर संदीप अहलूवालिया, मेकअप आर्टिस्ट सोनिया ढींगरा, लेफ्टिनेंट रीता गंगवानी पर्सनालिटी डेवलपमेंट मेंटर और सुनैना कश्यप सॉफ्ट स्किल ट्रेनर उपस्थित रही। व्हीलिंग हैप्पीनेस फाउंडेशन की दीपा मलिक जो पद्मश्री और अर्जुन अवार्ड से सम्मानित है ने कहा की हमारी संस्था एक जुट होकर विकलांग लोगो को सशक्त बनाने के लिए और उन्हें अक्षमताओं से परे क्षमताओं की खोज करने में सक्षम बनाने का काम कर रही है।