मुनि स्कूल में डिजास्टर मैनेजमेंट पर मॉक ड्रिल आयोजित

  |    December 23rd, 2018   |   0

नई दिल्ली (संवाददाता)- उत्तम नगर के मोहनगार्डन स्थित मुनि इंटरनेशनल स्कूल में छात्रों के बीच डिजास्टर के समय सुरक्षित रहने के लिए डिजास्टर मैनेजमेंट पर मॉक ड्रिल का आयोजन किया गया।सुबह स्कूल पहुंचे छात्रों को अचानक आपातकाल में बजने वाले हूटर की आवाज सुनाई दी, स्कूल की सभी आया व गेटकीपरों द्वारा स्कूल में ग्रउंड फलोर के सभी गेट को खोल दिया गया। सभी छात्रों व अध्यापकों ने अपनी कक्षाओं से दौङना शुरू किया, जो लोग ग्राउंड फ्लोर पर थे वो सामने के ग्राउंड में दौङे और जो लोग उपर के फ्लोर पर थे वो स्कूल में बनी दोनों साईड की सीढ़ियों से स्कूल सामने व बैक साईड के ग्राउंड में दौङते चले गए।

इस दौरान सभी अध्यापक छात्रों पर निगाहें रखे हुए थे, उन्हें सुरक्षित स्थान पर भगाने कि हिदायत दे रहे थे। छात्र दौङ-दौङ कर मैदान में भाग रहे थे। हूटर बजने के लगभग 2 से 3 मिनट में स्कूल की पूरी बिल्डिंग खाली हो चुकी थी। स्कूल के दोनों मैदानों में छात्र घबराए हुए परेशान से दिख रहे थे।

तभी माईक से स्कूल सुपरवाईजर की आवाज आई, किसी को घबराने की जरूरत नहीं, कोई भी छात्र व अध्यापक डरे नहीं। स्कूल में कोई घटना नहीं हुई है बल्कि यह डिजास्टर मैनेजमेंट की एक मॉक ड्रिल थी। अब सभी छात्र अपनी-अपनी कक्षा की लाईनें बनाकर खड़े हो जाएं।

इसके बाद सभी कक्षाओं के MLA / MP ने अपनी कक्षाओं की हाजरी ली, इसके बाद कक्षा अध्यापकों ने इनसे क्रॉस चैक किया कि कोई बच्चा छूटा तो नहीं। मॉक ड्रिल के बाद सभी छात्रओं को बताया गया कि डिजास्टर के समय वो अपने-आपको किस प्रकार सुरक्षित रखें, इस समय किस-किस प्रकार की सावधनियां बरतनी जरूरी होती हैं।

ध्यान रहे कि किसी भी प्रकार की आपातकालीन घटना में मनुष्य के जीवन को सुरक्षित रखना समाज के सभी लोगों की जिम्मेदारी है। लेकिन छात्रों को आपातकालीन घटना के समय सुरक्षा संबंधि प्रशिक्षण को सिखाया जाना बहुत जरूरी होता है, क्योंकि अकेले स्कूल में हजारों छात्रों की जान को बचाया जाना बिना प्रशिक्षण के संभव नहीं है। स्कूलों में मिले इस प्रकार के प्रशिक्षण से छात्र अपने समाज को भी लाभ पहुंचाते हैं।