कृषि उन्‍नति मेला 2018 में कल नरेंद्र मोदी प्रदान करेंगे कृषि विज्ञान प्रोत्साहन पुरस्कार

  |    March 16th, 2018   |   0

सरकार एवं किसानों के बीच संपर्क स्‍थापित करने में मोबाइल और इंटरनेट महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाते हैं : राधामोहन सिंह

नई दिल्ली(संवाददाता)-केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्‍याण मंत्री राधामोहन सिंह ने नई दिल्‍ली स्थित पूसा में आयोजित कृषि उन्‍नति मेला 2018 में कहा कि भारत डिजिटल एवं मोबाइल क्रांति की ओर अग्रसर हो रहा है और यहां तक कि दूरदराज के गांवों तक में भी मोबाइल फोन की पहुंच संभव हो गई है। उन्‍होंने कहा कि हम कृ‍षि से सूचना प्रौद्योगिकी को निर्बाध रूप से जोड़ते अथवा लिंक करते रहे हैं और सरकार एवं किसानों के बीच सीधा संपर्क स्‍थापित करने में मोबाइल और इंटरनेट महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। श्री राधामोहन सिंह ने यह भी कहा कि किसानों को सही समय पर आवश्‍यक सूचनाएं सुलभ कराने के लिए अनेक वेबसाइटों, पोर्टलों, एप्‍स और एसएमएस का उपयोग किया जा रहा है। उन्‍होंने यह भी कहा कि कृषि अनुसंधान पर महत्‍वपूर्ण सूचना इस मेले का मुख्‍य आकर्षण है।

केंद्रीय कृषि मंत्री ने यह भी कहा कि जैविक साधनों और इसके सफल क्रियान्वयन के माध्यम से नई कटाई तकनीक के लिए मेले में जैविक महाकुम्भ पैविलियन आकर्षण का एक विशेष केंद्र होगा। उन्होंने कहा कि सहकारिता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से एक सहकार सम्मेलन भी आयोजित किया जा रहा है। इसके अलावा कृषि से जुड़े मुद्दों पर वैज्ञानिकों और किसानों के बीच 9 चर्चाएं (रोजना-3 चर्चा) कराई जा रही हैं। मेले में खास बीज बिक्री काउंटर भी स्थापित किए गए हैं।

इस मेले में केंद्रीय और राज्य सरकारों, विभिन्न संगठनों इत्यादि द्वारा 800 से अधिक स्टालों की स्थापना की गई हैं। किसानों की आय बढ़ाने के नए उपायों के रूप में सूक्ष्म सिंचाई, नीम-लेपित यूरिया, मिट्टी की जांच/मृदा स्वास्थ्य कार्ड, उर्वरक के कम उपयोग के जरिए लागत में कमी, फसल बीमा योजना की प्रभावशीलता के साथ ही और पशुपालन, मधुमक्खी पालन, मुर्गी पालन जैसे आय बढाने के नए साधन भी दर्शाए जा रहे हैं। लाइव डेमो के जरिए, किसान मेले में वास्तविक खेती होते हुए भी देख सकते हैं।

प्रधान मंत्री  नरेंद्र मोदी, 17 मार्च, 2018 को मेले के दौरान किसानों, कृषि वैज्ञानिकों और अन्य प्रतिभागियों को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री जैविक खेती पोर्टल का उद्घाटन करेंगे और 25 केवीके की नींव रखेंगे। प्रधानमंत्री श्री मोदी कृषि कर्मन पुरस्कार और पंडित दीन दयाल उपाध्याय कृषि विज्ञान प्रोत्साहन पुरस्कर भी प्रदान करेंगे।