भगवान राम किसी एक धर्म के नहीं बल्कि पूरी मानवता के आराध्य हैं : जावेद क़ुरैशी

  |    November 8th, 2019   |   0

नई दिल्ली (संवाददाता)- राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में एक अहम बैठक पैग़ाम-ए-हुब्ब-उल-वतनी कॉन्फ़्रेंस सम्पन्न हुई इस बैठक में मुख्य रूप से सुप्रीम कॉर्ट द्वारा राम मंदिर को लेकर जो फ़ैसला आना है चर्चा  के मुख्य विषय रहे। यह RSS और BJP की तरफ़ से एक संयुक्त बैठक थी जिसमें भारी मात्रा में मुस्लिम  समाज के लोग उपस्थित थे। इस बैठक के माध्यम से यह संदेश दिया गया कि आने वाले समय में राम मंदिर के सम्बंध में सुप्रीम कोर्ट द्वारा निर्णय का सभी समाज खुले दिल से स्वागत करें।

इसमें मुख्य वक़्ता भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय युवा नेता जावेद क़ुरैशी रहे। क़ुरैशी ने बताया यह मुल्क हमारा मुल्क है और इसमें हर पंत, संप्रदाय और समाज लोग कई हज़ार सालों से एक साथ रहते आए हैं और भगवान राम किसी एक धर्म के नहीं बल्कि पूरी मानवता के आराध्य हैं।

हमें भी इतिहास की बातों को भुलाकर राम मंदिर के फ़ैसले का समर्थन करें चाहे वो जो भी हो और माननीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा जो भी निर्णय राम मंदिर के सम्बन्ध में लिया जाता है वह सभी धर्मों को खुले दिल से इसका स्वागत करना चाहिए। युवा नेता श्री जावेद क़ुरैशी ने कहा देश का सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने वाले तत्वों से दूर रह कर देश का माहौल किसी भी प्रकार से न बिगड़ने पाए।

उन्होंने मुस्लिम समाज को किसी भी प्रकार के प्रदर्शन नारेबाज़ी या सड़कों पर उतरकर रेलियाँ निकालने आदि किसी भी ऐसे काम से बचने की सलाह मुस्लिम समाज को दी जिससे कि देश का आपसी सोहार्द ख़राब न हो।

हमारे यशशवी प्रधानमंत्री आदरणीय नरेंद्र मोदी जी ने अभी कुछ दिन पहले ही एक बहुत ही अहम निर्णय धारा 370 और 35-A को समाप्त करके लिया है जिससे कई असामाजिक तत्वों और पाकिस्तान का समर्थन करने वाली ताकतें अब तक परेशान हैं। धारा 370 और 35-A ए और परिसीमन का ज़रिए कांग्रेस और घाटी के नेताओं ने देश के सामने कई समस्याओं को खड़ा कर दिया और इन समस्याओं ने कश्मीर को आतंकी गतिविधियों का गढ़ बना दिया था और पाकिस्तान ने कश्मीर को गेटवे-आफ-टेररिज़्म बना डाला। और इतना ही नहीं घाटी में कट्टरपंथ को इतनी हवा दी गई के बात अलगाववाद से बढ़कर ज़ाकिर मूसा और बुरहान वानी जैसे आतंकवादियों को वहाँ के युवाओं का आदर्श बना दिया गया।

भारत में भी बगदादी के इस्लामिक स्टेट जैसे सपने कश्मीर के युवाओं को दिखाए जाने लगे। ये भारत की वो पावन धरती है जहाँ मुस्लिम राष्ट्रीय भक्तों की कोई कमी नहीं उसमें से कुछ नाम अगर मैं लूँ तो रहीम, रसखान शहीद अब्दुल हमीद, दारा शिकोह, अश्फ़ाक-उल्लाह खान है और पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम जैसे लोग जो मुस्लिम समाज का अहम अंग रहे हैं ऐसे मुस्लिम राष्ट्र भक्त मुस्लिम समाज को कांग्रेस और घाटी के नेताओं ने बदनाम करने का कार्य किया है।

भारतीय जनता पार्टी के युवा नेता जावेद क़ुरैशी ने युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि भारत हमेशा ही से पंथनिरपेक्ष रहा है यहाँ पे किसी भी राज्य को केवल और केवल सांस्कृतिक आधार पर पहचान मिल सकती है ना कि धर्म के आधार पर। भारत हरगिज़ किसी भी पंत या संप्रदाय के आधार पर किसी भी राज्य को मान्यता देने के पक्ष में नहीं है क्योंकि जो भी देश धर्म के आधारों पर बँट जाता है उस देश का कभी विकास नहीं हो सकता और हमारे यशशवी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी भी का भी यही सपना है की मुस्लिम समाज के हर युवा के एक हाथ में क़ुरान और दूसरे हाथ में लैप्टॉप होना चाहिए और भारतीय जनता पार्टी भी यही कहती हैं कि सबका साथ सबका विकास और सबका विश्वास।

इस सब में सब आ गए और सब यानी पूरा भारत देश इस देश के समस्त 130 करोड़ नागरिक सबका साथ और सबका विकास का अहम हिस्सा है कोई भी पंत कोई भी धर्म कोई भी राज्य कोई भी समाज इस सब से अछूता नहीं है। मैं कहना चाहूंगा कि कांग्रेस की तुष्टीकरण की नीति के कारण देश को धर्म और मज़हब के आधार पर टुकड़े करने की साज़िश रची गई और कश्मीर समस्या को भी ज़बरदस्ती धार्मिक रूप दिया गया।

इसी के साथ साथ क़ुरैशी ने कहा  कि 16 इस्लामिक देशों सहित 20 देशों में तीन तलाक़ क़ानून पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया है। तीन तलाक़ की प्रथा सिर्फ़ मुस्लिम समाज में ही थी और कोई कोई धर्म इसके परिसीमन में नहीं आता है और मैं शुक्रगुज़ार हूँ आदरणीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जिन्होंने मुस्लिम महिलाओं की चिंता करते हुए 3 तलाक़ जैसी कुरीति को मुस्लिम समाज से दूर करने का कार्य किया है मैं समझता हूँ कि यह उन लोगों के मुँह पर करारा तमाचा है जिन्होंने इस्लाम को समझें बग़ैर तीन तलाक़ जैसी कुरीतियों के कारण इस्लाम का  दुष्प्रचार किया है।

मुस्लिम समाज की  हर महिला हमारी हर माँ-बेटी अब घुट-घुट कर नहीं बल्कि सम्मान के साथ अपनी ज़िंदगी जिएगी और जो लोग ट्रिपल तलाक़ को एक धमकी की तरह मुस्लिम महिलाओं पर इस्तेमाल करते थे उन पर रोक लगाने का कार्य मोदी सरकार ने किया है।

हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी और गृह मंत्री माननीय अमित शाह जी और भारतीय जनता पार्टी को शुभकामनाएं देते हैं बधाई देते हैं और उन्हें विश्वास दिलाते हैं कि मुस्लिम समाज प्रधानमंत्री जी के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है और मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के कार्यकर्ता देश के कोने कोने में जाकर मोदी जी की नीतियों से और मोदी जी की योजनाओं से मुस्लिम समाज  को अवगत कराएंगे और देश  में आपसी सौहार्द बना रहे हैं इसके लिए दिन रात एक कर देंगे।