आईडब्लूपी ने बीते 20 सालों में देश की हजारों बालिकाओं को प्रशिक्षित कर स्वावलम्बी बनाया है : विशाल निझावन

  |    December 16th, 2019   |   0

नारी शक्ति और उसके स्वाभिमान को दर्शाता है IWP का मिराकी-2019

मनोज तिवारी ने पहली बार वोट डालने वाली हजारों लड़कियों को दिलवाई वोट डालने की शपथ

नई दिल्ली(राजेश शर्मा)- देश की राजधानी दिल्ली मे नारी शक्ति और उसके स्वाभिमान को आम लोगों तक पहुँचाने और उसके हुनर को दर्शाने में अग्रसर देश का प्रतिष्ठित वूमेन एजुकेशन संस्थान इंटरनेशनल वूमेन पॉलिटेक्निक ने वार्षिक समारोह का आयोजन किया। जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में आयोजित IWP के कला, सौंदर्य और संस्कृति के अनोखे मिश्रण मिराकी-2019 में हजार से अधिक छात्राओं व अभिभआवकों ने शिरकत की। इस बढ़ते और बदलते भारत में लड़कियों के प्रभाव और सामंजस्य को अलग-अलग अंदाज मे दर्शाया।

मिराकी-2019 का उद्धघाटन मुख्य अतिथि सांसद एवं दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी द्वारा दीप प्रज्वलित करके किया गया। जिसमे आईडब्लूपी के प्रबंधनिदेशक विशाल निझावन, श्रीमती सुभाषिनी निझावन , टीना चटवाल, शोनाली नागरानी, नितिन मेहता, भर्ती तनेजा, रीता गंगवानी, अनुपमा दयाल आदि फैशन एवं कॉर्पोरटे जगत के नामी लोग मुख्य रूप से मौजूद थे।

इस कार्यक्रम के माध्यम से संस्थान ये सन्देश लोगों तक पहुंचाना चाहता है कि देश में महिलाओं के साथ हो रहे अत्याचार एवं असामाजिक घटनाओं पर पूरी तरह अंकुश लगाने का वक़्त आ गया है। जब तक   हम सब इसके प्रति सजग एवं संवेदनशील नहीं होंगे तब तक ऐसी घटनाएं होती रहेंगी। हमे महिलओं को ना सिर्फ सशक्त बनाना है एवं देश के विकास के भागीदार भी बनाना है।

मुख्य अतिथि  मनोज तिवारी ने महिलओं के शशक्तिकरण और लोकतंत्र में भागीदारी को लेके विशेष रूप से ज़ोर दिया। उन्होंने इस कार्यक्रम में उपस्थित हजारों लड़कियां जो कि पहली बार वोट डालने जाएंगी उनको वोट शपथ दिलवाई। वहां मौजूद लोगों ने वोट शपथ ली।

कार्यकम की शुरूआत गणेश वंदना द्वारा हुई इसके बाद आईडब्लूपी की अलग-अलग ब्रांच की छात्राओं ने विभिन्न प्रकार के गीत,नृत्य व सांस्कृतिक गतिविधियां प्रस्तुत की। वहीं जनकपुरी ब्रांच द्वारा देश मे बढ़ रही बलात्कार की घटनाओं पर नाटक के माध्यम से कठोर प्रहार किया गया। नाटक मे दर्शाया गया की हमारे समाज में लड़कियों के पहनावे और संस्कार के बारे मे किस प्रकार क्या-क्या बोला जाता है, लेकिन लड़के बलात्कार जैसे घिनौनी हरकत न करे उसको कोई नहीं समझाता है, सारे नियम कानून और बंदिशे लड़कियों पर ही लागू होते है।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मनोज तिवारी ने कहा हम सब लड़कों को तवज्जो देते है लेकिन देश की संस्कृति, सभ्यता और सुंदरता सब कुछ लड़कियों की वजह से है। हमारा देश आज जिस किसी भी मुकाम पर है उसमे नारी शक्ति का आदि-काल से ही बहुमूल्य योगदान रहा है और आज भी और आगे भी रहेगा।

आईडब्लूपी जो की पिछले 20 सालों से देश की तमाम बालिकाओं को प्रशिक्षित करके स्वावलम्बी बनाने का काम कर रहा है मे इस संस्था और इसके संचालको को हार्दिक धन्यवाद करता हूँ। संस्थान ने इन वर्षो मे लाखो लड़कियों को एक कुशल और समग्र रूप से न केवल अच्छा इंसान बनने को प्रेरित किया है बल्कि उनको आज के ज़माने मे पुरुषो की साथ कदम से कदम मिलाकर चलने योग्य बनाया है। आज के दौर में महिलाओं के साथ असामाजिक घटनाएं हो रही हैं इसमें हमारे पूरे समाज की ज़िम्मेदारी बनती है कि एक ऐसा माहौल बनाएं जहाँ महिलाएं सुरक्षित एवं सशक्त महसूस कर सकें। कोई भी समाज बिना महिलाओं की प्रगति के आगे नहीं बढ़ सकता।

मिराकी और संस्थान के उद्देश्य के बारे मे बताते हुए इंटरनेशनल वूमेन पॉलिटेक्निक के प्रबंध निदेशक  विशाल निझावन ने कहा कि हमे ख़ुशी और संतुष्टि है की हम सबने मिलकर नारी-शशक्तिकरण का जो जिम्मा उठाया था सफल साबित हुआ।