इंडियन ऑयल की खेल कोटा भर्ती में शामिल होंगे शूटिंग, तीरंदाज़ी, कुश्ती और मुक्केबाज़ी

  |    July 15th, 2019   |   0

इंडियन ऑयल स्पोर्ट्स कॉन्क्लेव 2019’ में खिलाड़ियों को मिला सम्मान

कॉर्पोरेशन ग्रामीण क्षेत्रों में खेलों को बढ़ावा देने की संभावना पर तेजी से कर रहा कार्य

नई दिल्ली(संवाददाता)- खेलों को बढ़ावा देने के लिए भारत की प्रमुख राष्ट्रीय तेल कंपनी इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल) ने अपने भावी रोडमैप की घोषणा की है। जिसका उद्देश्य सभी खेलों के खिलाड़ियों को आगे बढ़ाना है। सभी देशवासी चाहते हैं की हमारे खिलाड़ी ओलम्पिक्स में सफलता हासिल करें और देश की इस आकांक्षापूर्ति में सहयोग देने के लिए इंडियन ऑयल भी विविध तरीकों से योगदान कर रहा है।

इंडियन ऑयल ने नई दिल्ली एक दिवसीय ’स्पोर्ट्स कॉन्क्लेव 2019’ का आयोजन किया जिसमें उन खिलाड़ियों को सम्मानित किया गया जो अपने शुरुआती दिनों में कंपनी से जुड़े और खेल जगत में अपनी पहचान कायम की। इंडियन ऑयल ने देश में खेलों को बढ़ावा देने के लिए नई पहलों की घोषणा की है।

इस सम्मेलन में 60 से अधिक खिलाड़ी शामिल हुए जो इंडियन ऑयल परिवार का हिस्सा हैं जिनमें मुख्यरूप से पुलेला गोपीचंद, मानिका बत्रा, चेतेश्वर पुजारा, पृथ्वी शॉ, रोहन बोपन्ना, ए शरत कमल, सिमरनजीत सिंह, पी कश्यप, वसीम जाफर, अपर्णा बालन, एन सिक्की रेड्डी और बी. अधिबान के नाम शामिल हैं।

स्पोर्ट्स कॉन्क्लेव के दौरान आईओसीएल के निदेशक (एचआर) रंजन के. महापात्रा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 2020 और 2024 के ओलम्पिक्स पर लक्ष्य कर रहे हैं और उन्होंने एक टास्क फोर्स गठित की है जो खिलाड़ियों एवं विभिन्न खेलों को सहयोग देने के लिए समग्र ऐक्शन प्लान बनाए।

इंडियन ऑयल इस ध्येय की प्राप्ति व इसमें योगदान हेतु काम कर रही है और इसके लिए कंपनी भविष्य के पदक विजेताओं को संवार रही है तथा देश के लिए सम्मान अर्जित करने के उनके सपनों में सहयोग कर रही है।

खेल, इंडियन ऑयल की कॉर्पोरेट सामाजिक दायित्व का अभिन्न अंग हैं। इंडियन ऑयल के लिए खेल विकास का मंत्र यह है की उत्कृष्ट खिलाड़ियों को अवसर प्रदान किए जाएं जिससे उनका प्रदर्शन निखारने में मदद मिले और वे देश के लिए गौरव हासिल कर सकें।

इंडियन ऑयल की खेल नीति के रोडमैप का खुलासा करते हुए महापात्रा ने बताया, ’’इंडियन ऑयल की योजना वॉलीबॉल, बास्केटबॉल, शूटिंग, तीरंदाज़ी, कुश्ती, कबड्डी, फुटबॉल व मुक्केबाज़ी खेलों को शामिल करने की है जिससे इन्हें खेलने वाले खिलाड़ियों की कंपनी में भर्ती की जाए। इंडियन ऑयल पैरालिम्पिक खिलाड़ियों को भी अपनी योजना में शामिल करने की प्रक्रिया में है।

इंडियन ऑयल के कॉर्पोरेट सामाजिक दायित्वों के महत्वपूर्ण पक्षों में से एक है – खेल, और हम जमीनी स्तर से खेल क्रांति लाने के लिए प्रयासरत हैं। कॉर्पोरेशन ग्रामीण क्षेत्रों में खेलों को बढ़ावा देने की संभावना पर सक्रियता से काम कर रही है, कंपनी की योजना सरकारी स्कूलों में कोचिंग सुविधाएं व किट मुहैया कराने की है। इंडियन ऑयल पूर्व खिलाड़ियों को बढ़ावा देती है की वे राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कोचिंग गतिविधियों से जुड़ें और प्रतिभावान खिलाड़ियों को तैयार करें जिससे वे देश के खेल सितारे बनें और पदक जीत कर लाएं।

इंडियन ऑयल के खिलाड़ी निरंतर मजबूत होकर आगे बढ़े हैं और उन्होंने सबसे ऊंची प्रतिस्पर्धाओं में शानदार प्रदर्शन करके देशवासियों के हृदय को गौरव से भर दिया है। यह स्पोर्ट्स कॉन्क्लेव 2019 ऐसे ही असाधारण खिलाड़ियों का उत्सव है। कॉर्पोरेशन के वरिष्ठ प्रबंधन महापात्रा का कहना था कि इस सम्मेलन के माध्यम से हम इंडियन ऑयल खिलाड़ियों उनकी उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिए सम्मानित करते हैं। इस कॉन्क्लेव में इंडियन ऑयल आइकॉन फ द ईयर को भी पुरस्कृत किया गया।