बेहतरीन प्रशासनिक व्यवस्था के दृष्टिगत देश में छोटे राज्यों में हरियाणा राज्य एक उल्लेखनीय उदाहरण : मनोहर लाल

  |    December 8th, 2018   |   0

नई दिल्ली (संवाददाता)- हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि विकास को गति देने, जन कल्याणकारी योजनाओं के सही रूप में क्रियान्वयन व बेहतर प्रशासनिक प्रणाली के लिए छोटे राज्य वास्तव में ही विकास का पर्याय हैं। हालांकि ऐसा भी नहीं है कि बडे राज्य विकास नहीं कर सकते।
लोकप्रिय राष्ट्रीय दैनिक हिंदी समाचार पत्र ‘दैनिक जागरण’ द्वारा आयोजित दो दिवसीय (07 दिसंबर,2018 से 08 दिसंबर,2018) “युवा उम्मीदों का भारत” कार्यक्रम में’छोटा राज्य-विकास का पर्याय’ सत्र को संबोधित करते हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास,योजनाओं के कार्यान्वयन व बेहतरीन प्रशासनिक व्यवस्था के दृष्टिगत देश में छोटे राज्यों में हरियाणा राज्य एक उल्लेखनीय उदाहरण है।
हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा कि अमेरिका की कुल जनसंख्या 32-33 करोड है और 50 राज्य हैं। जापान की कुल जनसंख्या 12-13 करोड़ है और 47 राज्य  हैं। भारत की कुल जनसंख्या 132 करोड़ है और 29 राज्य व 07 केंद्र शासित प्रदेश हैं। भारत-रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में देश में तीन राज्यों–छतीसगढ, झारखंड व उत्तराखण्ड का गठन किया गया और इन तीनों ने अच्छा विकास किया है।
हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 1966 में गठन के समय हरियाणा राज्य के समक्ष कमजोर सेवा क्षेत्र, कमजोर आर्थिक स्थिति, पिछड़ापन व अशिक्षा जैसी  गंभीर चुनौतियां थी। तब कहा जाता था कि नवगठित  हरियाणा राज्य तो अपने सरकारी कर्मचारियों को वेतन भी नहीं दे पाएगा।वर्तमान में विकास के पैमानों के दृष्टिकोण से हरियाणा राज्य देश मे अग्रणी राज्यों में है। प्रति व्यक्ति आय की दृष्टि से हरियाणा राज्य 01 लाख 86 हजार 832 रूपये  प्रति व्यक्ति आय के साथ देश में बडे राज्यों में प्रथम स्थान पर है। हरियाणा राज्य देश के कुल क्षेत्रफल का 02 प्रतिशत है परंतु केंद्रीय पूल में हरियाणा राज्य का खाद्यान्न योगदान पूरे देश में द्वितीय स्थान पर हैं। वर्तमान में हरियाणा राज्य के प्रत्येक गाँव तक सड़क मार्ग व विद्युत आपूर्ति की सुविधा है। हरियाणा में  स्वास्थ्य , शिक्षा ,परिवहन, पेयजल ,सिंचाई व अन्य सेवाएं पर्याप्त रूप से उपलब्ध है।देश की सेनाओं में 09 प्रतिशत से अधिक हरियाणा प्रदेश के सैनिक हैं। खेलों में हरियाणा प्रदेश पूरे देश में प्रथम स्थान पर है। किसानों की फसलों की खरीदारी की हरियाणा प्रदेश की व्यवस्था अन्य राज्यों के लिए अनुकरणीय है। हरियाणा मे कई क्षेत्रों में गिर रहे भूमिगत जलस्तर को नियंत्रित करने के दिशा में वाटर-रीचार्ज प्रणाली को विस्तार व सूक्ष्म सिचाई प्रणाली को प्रत्साहित किया जा रहा है।
हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार हरियाणा में भ्रष्टाचार मुक्त व पारदर्शी शासन-प्रशासन देने में सफल हुई है। सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग को  प्रणाली में महत्व दिया है। अंतिम पायदान पर बैठे व्यक्ति तक जनकल्याणकारी नीतियों व विकास का लाभ पहुंचाना सुनिश्चित करने के प्रयास किए गए हैं। हरियाणा प्रदेश में चारों विद्युत निगमों को लाभ की स्थिति में लाने में सफल हुए हैं और उपभोक्ताओं के लिए विद्युत दरों को कम करने में सफल हुए हैं। सब्जि उत्पाक किसानों के लिए भावांतर योजना क्रियान्वित की है। हरियाणा में पंचायती राज  संस्थाओं के पदाधिकारियों के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता निर्धारित कर एक अभूतपूर्व कदम उठाया है।
“युवा उम्मीदों का भारत” कार्यक्रम में हरियाणा के मुख्यमंत्री से विभिन्न विषयों के संदर्भ में संवाद भी किया।  “युवा उम्मीदों का भारत” कार्यक्रम में जागरण प्रकाशन लिमिटेड के समूह संपादक संजय गुप्त व दैनिक जागरण (राष्ट्रीय प्रकाशन) के संपादक विष्णु प्रकाश त्रिपाठी मौजूद रहे।