खुशहाल जीवन के लिए परिवार नियोजन सही विकल्प : अजेश यादव

  |    July 12th, 2018   |   0

               जनसंख्या स्थिरीकरण पखवाङे के तहत परिवार नियोजन जागारुकता हेतु स्वास्थ्य कर्मियों ने नकाली रैली

नई दिल्ली (विद्यानंद मिश्रा)- जनसंख्या दिवस के मद्देनजर दिल्ली के उत्तरी जिले में किए जा रहे विभिन्न कार्यक्रमों के तहत गुरुवार को स्वरूप नगर में परिवार नियोजन के प्रति जनता को जागरुकता के लिए दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य कर्मीयों ने रैली निकाली और जनसभा का आयोजन किया।

कार्यक्रम का उद्घाटन स्थानीय विधायक अजेश यादव व जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ विनोद कुमार द्वारा किया गया। इस दौरान आर.सी.एच नोडल अधिकारी डा. ज्योति प्रकाश बिशेई, एन.एच.एम.नोडल अधिकारी डा. नम्रता नैय्यर, नोडल अधिकारी, डा. मनीष सैनी, डा. जावेद हबीब, रतना यादव, तरुणा कौशिक, अर्पणा, मो. दानिश व अन्य गणमान्य जनसेवक भी मुख्यरूप से मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

विधायक अजेश यादव ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग का यह सराहनीय प्रयास है। उन्होंने जनता से अपील की कि वो जनसंख्या वृद्धि पर नियंत्रण में सहयोग करे। स्वास्थ्य विभाग द्वारा परिवार नियोजन के बारे में दी जा रही जानकारियों का भरपूर लाभ उठाएं। विधायक श्री यादव ने उपस्थित लोगों को बढती जनसंख्या से होने वाली परेशानियों से भी अवगत करवाया। विधायक व स्वास्थ्य अधिकारियों ने कर्मियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि दिल्ली सरकार राज्य के नागिरकों के स्वास्थ्य के प्रति सजग हैं और दिल्ली के निवासियों को अस्पताल में दवाईयों की 100 प्रतिशत उपलब्धता है।

निजी अस्पतालों में फ्री इलाज के लिए एक हेल्पलाइन 1031 के बारे में बताया कि दिल्लीवासीयों इस पर स्वंय सम्पर्क कर स्वास्थ्य योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं।

मुख्य जिला चिकित्सा अधिकारी डॉ विनोद कुमार ने बताया की स्वास्थ्य विभाग जिले में जनसंख्या रोकथाम के प्रचार –प्रसार के लिए इस प्रकार की रैली व अन्य कार्यक्रम आयोजित करता है। विश्व जनसंख्या दिवस के अवसर पर हर वर्ष में एक बार घनी आबादी वाले क्षेत्रों व स्लम एरिया में कम शिक्षित लोगों के बीच जन जागरुकता के कार्यक्रम  आयोजित किये जाते है। क्योंकि इस तबके में जागरूकता का आभाव रहता है, ये लोग स्वास्थ्य केंद्रों पर जाने से कतराते है और परिवार नियोजन के लिए अपनाए जाने वाले साधनों के प्रयोग के लिए पूर्ण ज्ञान भी नहीं रखते। लेकिन इस प्रकार के मेले जब इनके घरों के पास होते हैं तो इसका लाभ इन लोगों को जरूर मिलाता है, पुरूष ही नहीं महिलाएं भी भारी संख्या में परिवार नियोजन की जानकारी लेने के लिए आती हैं।

आर.सी.एच नोडल अधिकारी डा. ज्योति प्रकाश बिशेई, ने मंच से सम्बोधित करते हुए परिवार नियोजन के स्थाई व अस्थाई उपायों को अपनाने पर जोर दिया। वहीं उत्तरी जिले के एन.एच.एम. नोडल अधिकारी डा. नमृता नैय्यर ने बताया कि आशा कर्मी मुख्य रुप से घर–घर जाकर स्वास्थ्य विभाग की महत्वकांक्षी योजनाओं जैसे परिवार नियोजन, दो बच्चों के जन्म बीच तीन वर्ष का अंतर, संतुलित आहार, पुरूष नसबंदी व महिला नलबंदी,प्रसव पूर्व लिंग जांच गैर-कानूनी, आशा स्कीम, प्रसव के बाद की सावधानियां, पुरूष व महिलाओं के लिए गर्भ रोधक उपाय को बताया गया।

आशा रैली को आकर्षक बनाने के लिए स्थानीय आशा वर्कर्स द्वारा लघुनाटिका की गई, कलाकारों द्वार कई प्रकार के शिक्षा प्रद रंगारंग कार्यक्रमों के माध्यम से परिवार नियोजन उपाय, विभिन्न बीमारियों तथा स्वस्थ्य रहने के नुसखे समझाए गए। कार्यक्रम में आए लोगो की निशुल्क चिकित्सा जाचं की व्यवस्था भी की गई थी।