छात्र नौकरियां ढूँढने वाले ही नहीं, नौकरियां देने वाले भी बने : मनीष सिसोदिया

  |    August 2nd, 2019   |   0

देश के 5 शीर्ष संस्थानों में से एक है डीटीयू, यहां पढ़ रहे हैं  लगभग 12,300 छात्र , 19 स्टार्टअप कर रही हैं काम

नई दिल्ली (संवाददाता)- दिल्ली के उपमुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि डीटीयू कुछ नया करें, सरकार हर संभाव मदद के लिए तैयार है। उपमुख्यमंत्री दिल्ली प्रोद्यौगिकी विश्वविद्यालय (डीटीयू) के ओरिएंटेशन कार्यक्रम-2019के शुभारंभ अवसर पर बुधवार को डीटीयू में आयोजित एक समारोह में मुख्यातिथि के तौर पर संबोधित कर रहे थे।

इसअवसर पर उन्होने डीटीयू में नए आए करीब 3 हजार विद्यार्थियों का स्वागत करते हुए उन्हे सफल भविष्य की शुभकामनाएं दी। सिसोदिया ने नए आए विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि आप लोग विशिष्ट हैं जो डीटीयू में दाखिल हुए और आप लोगों की समूहिक विशेषता ही डीटीयू को विशेष बनाती है। उन्होने कहा कि डीटीयू देश के 5 शीर्ष संस्थानों में से एक है। आपको इसमें आने का शौभाग्य मिला ये गर्व की बात है।

उन्होने कहा कि इसी समय देश भर में करीब 20 लाख विद्यार्थी अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करके उच्च शिक्षा के लिए विभिन्न संस्थानों में पहुँच रहे हैं। क्योंकि आप विशेष हैं, इसीलिए आपको उनसे स्पर्धा नहीं करनी अपितु उनके पूरक बनना है। करीब 17-18 लाख विद्यार्थी हर साल ग्रेजुएशन करते हैं। अगर सब नौकरियां ढूँढने लगें तो देश में इतनी नौकरियाँ कहाँ से आएंगी? इसीलिए कुछ को नौकरियां देने वाले भी बनना है।

श्री सिसोदिया ने कहा कि डीटीयू के पूर्व छात्रों का देश की अर्थव्यवस्था में बहुत बड़ा योगदान है। यहां से निकले अनेकों पूर्व छात्र लाखों लोगों को रोजगार दे रहे हैं, लेकिन आज भी अधिकतर बड़ी कंपनियां विदेशी ही हैं। जब तक दुनिया में नौकरियां देने वाली सर्वोत्तम कंपनियां भारतीय नहीं होंगी, तब तक हम चैन से नहीं बैठेंगे। उन्होने कहा कि जापान में पानी से हाइड्रोजन के अणु लेकर उससे कार चलाने पर बात हो रही है, तो डीटीयू में भी ऐसे अनुसंधान होने चाहिएं, सरकार इसके लिए हर मदद को तैयार है।

इस अवसर पर उन्होने सरकार की योजनाओं को गिनवाते हुए कहा कि दिल्ली सरकार ने विद्यार्थियों के लिए 10 लाख तक के शिक्षा ऋण की गारंटी की योजना शुरू की हुई है। दिल्ली निवासियों के लिए दी जा रही इस योजना में डिग्री पूरी करने के एक साल बाद से 15 साल तक विद्यार्थियों को यह ऋण लौटाना होता है। उन्होने डीटीयू के विद्यार्थियों व अभिभावकों को आश्वस्त करते हुए कहा कि डीटीयू की फीस को लेकर परेशान न हों, जिन्हें फीस में दिक्कत आए वो दिल्ली सरकार से संपर्क करें। सरकार ने 6 लाख सालाना से कम आय वाले परिवारों के लिए फीस मे 25% छूट, ढाई लाख से कम के लिए 50% व एक लाख सालाना से कम आय वाले परिवारों के बच्चों के लिए फीस में 100% तक की छूट का प्रावधान किया हुआ है।

अंत में उन्होने नए आए विद्यार्थियों को देश की सबसे शानदार यूनिवर्सिटी में आने पर बधाई देते हुए आह्वान किया कि वो सब मिलकर इसे अब दुनिया की भी सबसे शानदार यूनिवर्सिटी बनाएँ।

समारोह में विशिष्ट अतिथि के तौर पर पहुंचे दिल्ली सरकार के टीटीई विभाग के निदेशक, आईएएस सरप्रीत सिंह गिल ने विद्यार्थियों को सुनहरे भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी व डीन (यूजी) प्रो. मधुसूदन ने कार्यक्रम में आए अतिथियों का स्वागत किया।

समारोह की अध्यक्षता करते हुए डीटीयू के कुलपति प्रो. योगेश सिंह ने उपमुख्यमंत्री व सभी अतिथियों, शिक्षकों तथा अभिभावकों व विद्यार्थियों का समारोह में पहुँचने पर स्वागत करते हुए डीटीयू के बारे में विस्तार से परिचित करवाया। उन्होने विद्यार्थियों के लिए अपने संबोधन में कहा कि ये डीटीयू के लिए गर्व की बात है कि इतने कर्मठ बच्चे यहाँ दाखिल हुए और आप सबके लिए भी गर्व की बात है कि आपने इस संस्थान को ज्वाइन किया। हम यह साबित करेंगे कि आपने एक सही संस्थान का चयन किया है।

उन्होने कहा कि डीटीयू का 78 वर्ष का शानदार इतिहास रहा है। यह संस्थान देश की सभी आईआईटी से पुराना है। 1941 से 2019 तक का इसका शानदार सफर न जाने कितने अनुभवों से भरा है, जिसका आपको लाभ मिलेगा। हमारे पास दुनिया कि सर्वोत्त्म फ़ैकल्टी है। जहां कुछ सीखना होता है वहाँ भरोसा व श्रद्धा जरूरी है इसलिए आप भरोसा व विश्वास बनाए रखें, निसंदेह डीटीयू आपके सुनहरे भविष्य का निर्माण करेगा।

उन्होने बताया कि इंडिया टूड़े की सूची में डीटीयू देश भर में 5वें स्थान पर है तो टाइम्स कि सूची में दूसरे स्थान पर है। इस वर्ष में डीटीयू के विद्यार्थियों को शानदार पैकेज मिलें हैं जिनमें सबसे अधिक 1.02 करोड़ का पैकेज रहा। उन्होने बताया कि इस वर्ष डीटीयू में 12300 के करीब विद्यार्थी पढ़ रहे हैं। विश्वविद्यालय में 19 स्टार्टअप काम कर रही हैं और रोजगार तलाशने की बजाए रोजगार पैदा करने पर काम किया जा रहा है।

उन्होने जानकारी देते हुए बताया कि डीटीयू के एल्यूमनी इसके ब्रांड अंबेसडर हैं। वर्तमान में भी डीटीयू मे एल्यूमनी लाखों लोगों को रोजगार दे रहे हैं। समारोह के अंत में डीटीयू के प्रतिकुलपति प्रो. एस. के. गर्ग ने आए हुए अतिथियों का धन्यवाद ज्ञपित किया। इस अवसर पर बवाना के विधायक रामचन्द्र, डीटीयू के रजिस्ट्रार प्रो. शमशेर सिंह, सभी डीन, शिक्षक, गैर शिक्षक कर्मचारी व अधिकारियों सहित हजारों विद्यार्थी व अभिभावक उपस्थित रहे।