दिल्ली-वडोदरा-मुंबई एक्सेस कंट्रोल्ड द्रूत गति एक्सप्रेसवे से हरियाणा में बनेंगे आर्थिक विकास के नए क्षेत्र

  |    March 9th, 2019   |   0

नई दिल्ली(संवाददात)- हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि आठ मार्गीय दिल्ली-वडोदरा-मुंबई एक्सेस कंट्रोल्ड द्रूत गति एक्सप्रेसवे तथा आठ मार्गीय कंट्रोल्ड द्वारका  एक्सप्रेसवे के निर्माण से हरियाणा में आर्थिक विकास के नए क्षेत्र व अवसर उत्पन्न होंगें।

आठ मार्गीय दिल्ली-वडोदरा-मुबई एक्सेस कंट्रोल्ड द्रूत गति एक्सप्रेसवे तथा आठ मार्गीय द्वारका कंट्रोल्ड एक्सप्रेसवे के आधार शिला व जयपुर रिंगरोड के लोकार्पण समारोह को संबोधित करते हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार द्वारा देश में आधारभूत ढांचा विशेषकर राजमार्गों के निर्माण को योजनाबद्ध रूप से विस्तार दिया गया है। हरियाणा के मुख्यमंत्री ने केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग,पोत परिवहन एवं जल संसाधन,नदी विकास और गंगा सरंक्षण मंत्री नीतिन जयराम गडकरी का धन्यवाद व्यक्त करते हुए कहा कि गत साढे चार वर्षों में हरियाणा क्षेत्र में 11 राष्ट्रीय राजमार्ग स्वीकृत हुए हैं। हरियाणा क्षेत्र में स्वीकृत हुए इन राष्ट्रीय राजमार्गों पर  लगभग 35,000 करोड़ रूपये खर्च होंगे। नीतिन जयराम गडकरी ने भी आठ मार्गीय द्वारका कंट्रोल्ड एक्सप्रेसवे के संदर्भ में विभिन्न प्रक्रियाओं में हरियाणा सरकार विशेषकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल के सहयोग की प्रशंसा करते हुए धन्यवाद व्यक्त किया।
समरोह को संबोधित करते हुए विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज ने कहा कि आठ मार्गीय दिल्ली-वडोदरा-मुंबई एक्सेस कंट्रोल्ड द्रूत गति एक्सप्रेसवे के हरियाणा क्षेत्र से गुजरने के परिणामस्वरूप हरियाणा विशेषकर मेवात क्षेत्र के विकास के नए मार्ग खुल गए हैं। केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि भारत पूरे विश्व में सर्वाधिक तेज गति से सडक मार्गों के निर्माण करने वाला देश बन रहा है। उल्लेखनीय है कि वित्त मंत्री अरुण जेटली व विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज ने 90,000 करोड रूपये लागत से निर्मित किए जाने वाले देश मे सर्वाधिक लंबाई के 1320  किलोमीटर लंबे आठ मार्गीय दिल्ली-वडोदरा-मुबई एक्सेस कंट्रोल्ड द्रूत गति एक्सप्रेसवे तथा 9,000 करोड़ रूपये लागत से निर्मित किए जाने वाले 29 किलोमीटर लंबे देश के शहरी क्षेत्र के प्रथम आठ मार्गीय द्वारका कंट्रोल्ड एक्सप्रेसवे की आधारशिला रखी। वित्त मंत्री व विदेश मंत्री ने 1217 करोड़ रूपये लागत से  निर्मित किए गए 47 किलोमीटर लंबे छह मार्गीय जयपुर रिंगरोड का लोकार्पण भी किया। 
आठ मार्गीय  दिल्ली-वडोदरा-मुबई एक्सेस कंट्रोल्ड एक्सप्रेसवे हरियाणा क्षेत्र से गुजरने व 29 किलोमीटर लंबे आठ मार्गीय द्वारका एक्सप्रेस का 18.9 किलोमीटर भाग हरियाणा में पडने के परिणामस्वरूप हरियाणा में आर्थिक विकास के नए क्षेत्र विकसित किए जाने की प्रबल संभावनाएं उत्पन्न होंगी। उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय राजमार्गों के ढांचे को व्यापक स्तर पर विस्तार देने की दिशा में प्रारंभ की गई ‘भारतमाला परियोजना’ के अंतर्गत क्रियान्वित की जाने वाली  आठ मार्गीय दिल्ली-वडोदरा-मुबई एक्सेस कंट्रोल्ड उच्च गति एक्सप्रेसवे परियोजना को आगामी तीन वित्तीय वर्षों में पूर्ण किया जाएगा। आठ मार्गीय दिल्ली- वडोदरा-मुबई एक्सेस कंट्रोल्ड द्रूत गति एक्सप्रेसवे के निर्माण के परिणामस्वरूप दिल्ली से मुंबई तक का यात्रा समय 24 घंटे से घटकर 13 घंटे हो जाएगा। आठ मार्गीय दिल्ली-वडोदरा-मुबई एक्सेस कंट्रोल्ड उच्च गति एक्सप्रेसवे के निर्माण से दिल्ली से मुंबई तक की दूरी भी 150 किलोमीटर  तक कम तय करनी पडेगी।
 उल्लेखनीय है कि दिल्ली से वडोदरा तक एक्सप्रेसवे का निर्माण कार्य पांच चरणों में पूर्ण किया जाएगा। इसी क्रम में वडोदरा से मुंबई तक  एक्सप्रेसवे का निर्माण कार्य तीन चरणों में पूर्ण किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि दिल्ली से मुंबई तक एक्सप्रेसवे कार्य के प्रथम चरण में सोहना(हरियाणा) -लालसोट(राजस्थान) तक के  215 किलोमीटर लंबाई के निर्माण के लिए पांच पैकेजों में से तीन पैकेज हरियाणा क्षेत्र के अंतर्गत हैं। आठ मार्गीय दिल्ली- वडोदरा-मुबई एक्सेस कंट्रोल्ड द्रूत गति एक्सप्रेसवे  के हरियाणा क्षेत्र से गुजरने के परिणामस्वरूप औद्योगिक, वाणिज्यिक व निवेश के  नए अवसर व क्षेत्रों का सृजन भी होगा।          
शिव मूर्ति से खिडक़ी दौला तक निर्मित किए जाने वाला  29 किलोमीटर लंबा आठ मार्गीय द्वारका एक्सप्रेसवे गुरूग्राम के  बाई पास के रूप में प्रथम चरण होगा। आठ मार्गीय द्वारका एक्सप्रेसवे परियोजना में  दोनों ओर तीन मार्गीय सर्विस रोड का निर्मित किए जाने का प्रावधान भी शामिल है। आठ मार्गीय द्वारका एक्सप्रेसवे का 18.9 किलोमीटर भाग हरियाणा राज्य के क्षेत्र में पडने के  परिणामस्वरूप आर्थिक व वाणिज्यिक विकास के नए अवसर सृजित होंगे। पश्चिम दिल्ली क्षेत्र व हरियाणा को इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से जोड़ा जाएगा। आठ मार्गीय द्वारका एक्सप्रेसवे परियोजना मे सभी चौराहों पर मल्टी लेवल इंटरचेंज बनाए जाएंगे। आई टी एस (इंटेलिजेंट ट्रांसपोर्ट सिस्टम) भी विकसित किया जाएगा। समारोह में केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग,पोत परिवहन एवं रसायन व उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मांडविया, केंद्रीय योजना(स्वतंत्र प्रभार) रसायन व उर्वरक राज्य मंत्री राव इंद्रजीत सिंह, केंद्रीय युवा मामले व खेल(स्वतंत्र प्रभार), सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री राज्यवर्धन राठौर मौजूद रहे। समारोह में हरियाणा के लोक निर्माण मंत्री राव नरबीर सिंह,सांसद मनोज तिवारी,सांसद प्रवेश साहिब वर्मा व सांसद श्री रमेश बिधूडी भी मौजूद रहे।