दिल्ली के स्वास्थ्य कर्मचारियों में खुशी की लहर

  |    October 31st, 2017   |   0

सीएम केजरीवाल से मिला डबल सेलरी का अश्वासन

नई दिल्ली (राजेश शर्मा)- समान कार्य समान वेतन के मुद्दे पर बीते 44 दिनों से दिल्ली के सिविल लाईन स्थित विकास भवन के सामने हड़ताल पर बैठे दिल्ली के स्वास्थ्य कर्मचारियों में मंगलवार के दिन आचानक खुशी की लहर आई, क्योंकि आज दिल्ली के मुख्यमंत्री ने हङताल पर बैठे एनएचएम कर्मचारियों की यूनियन से मुलाकत कर सेलरी को डबल करने का आशवासन दिया। इस मौके पर दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सितेंद्र जैन भी उनके साथ मौजूद रहे।

मुलाकात के दौरान सीएम ने बताया कि सरकार ने समान कार्य समान वेतन की फाईल भी दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल को भेजी गई थी, लेकिन एलजी कार्यालय में लंबित इस फाईल पर अभी तक कोई ठोस निर्णय नहीं लिया।

परिणाम स्वरूप संबंधित फाईल उसी रूप में दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग को वापिस भेज दी गई। जबकि दिल्ली सरकार स्वास्थ्य कर्मियों की मांगों को बहुत पहले से दूर करने के पक्ष में थी। यही कारण है कि आज मुख्यमंत्री को खुद इस पर संज्ञान लेना पङा, और बिना राज्यपाल महोदय की स्वीकृति के भी स्वास्थ्य कर्मचारियों को राहत देते हुए एनएचएम के अनुबंधित कर्मियों को दोगुना वेतन देने की घोषणा की गई, जिसकी कल(बुधवार) अधीसूचना जारी कर दी जाएगी।

दिल्ली स्टेट एनएचएम/आरसीएच/आरएनटीसीपी/आईडीएसपी/एनएलईपीय/एनपीसीबी (ऑल वर्टिकल प्रोग्राम) एक्शन कमेटी के पदाधिकारियों के साथ 3000 हजार कर्मचारी कल मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री का धन्यवाद करने के लिए उनसे मिलेंगे।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से हुई मुलाकात के बाद मीडिया कर्मियों से चर्चा करते हुए एनएचएम स्वास्थ्य यूनियन अध्यक्षा भावना ने बताया कि आज सीएम  के साथ हुई मुलाकात काफी राहत भरी रही, उनहोंने 44 दिनों हड़ताल पर बैठे स्वास्थ्य कर्मचारियों की समस्याओं को गंभीरता से सुना और स्वास्थ्य कर्मियों को राहत देते हुए उन्होंने सभी अनुबंधित कर्मचारियों के वेतन को दोगुना करने की बात की कही। इसके अलावा हमारी मुख्यमांग समान कार्य समान वेतन के मुद्दे पर विधान सभा में चर्चा के बाद पूरा करने का अशवासन दिया।

भावना ने बताया कि एनएचएम स्वास्थ्य यूनियन व सरकार के बीच तालमेल बनाने में विधायक कमांडों सुरेंद्र सिंह व सचिवालय प्रभारी रतनेश कुमार ने अहम भूमिका निभाई।

एनएचएम स्वास्थ्य यूनियन अध्यक्षा भावना ने बीते 44 दिनों से चल रही हङताल के कारणवश दिल्ली के सरकारी अस्पताल, डिसपेंसरियों, मौहल्ला-कलिनिकों में स्वास्थ्य सेवाएं चर्ममरा गई थी, मरीज अपने इलाज के बेहाल भटक रहे थे, सरकार स्वास्थ्य के प्रति सजग है, यही कारण है कि आज मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने संवय संज्ञान लेते हुए हमारी बातों को गंभीरता से लेते हुए उनका समाधान कर दुगना वेतन करने का आश्वासन दिया।