डूसू चुनावों के लिए CYSS और AISA के सांझे उम्मीदवारों के नामों की घोषणा 

  |    September 6th, 2018   |   0

नई दिल्ली(विद्यानंद मिश्र)- दिल्ली वि.वि. छात्र संघ चुनावों में कुछ ही दिन बचे हैं सभी राजनीतिक दलों की छात्र इकाईयां डूसू चुनावों के लिए अपने-अपने उम्मीदवारों के नामों की घोषण करने में लगीं है। इसी बीच छात्र संघ चुनावों के लिए CYSS और AISA के सांझे पैनल पर चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों का परिचय मीडिया से करवाने के लिए पत्रकार वार्ता काआयोजन कियागया। जसमें में पत्रकारों से बातचीत करते हुए पूर्व डूसू अध्यक्ष और आम आदमी पार्टी की चांदनी चौक से विधायक अलका लम्बा ने CYSS और AISA के सांझे पैनल पर चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों को मीडिया से मिलवाया। अलका लम्बा ने बताया कि CYSS और AISA इस बार मिलकर डूसू चुनाव लड़ रही है। अध्यक्ष पद पर AISA के अभिज्ञान, उपाध्यक्ष पद पर AISA की अंशिका सिंह चुनाव लड़ रहे हैं, और सचिव पद पर CYSS के चंद्रमणि देव, उप-सचिव के पद पर सन्नी तंवर चुनाव लड़ रहे हैं। CYSS और AISA के सांझे पैनल की और से अध्यक्ष पद के प्रतियाशी अभिज्ञान ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा की जब मैंने दिल्ली विश्विधालय में प्रवेश किया तो छात्र राजनीती का केवल एक ही रूप देखा था, जो की गुंडागर्दी और पैसो से चलता था। लेकिन जब में AISA से मिला तो पता चला की, एक और विकल्प है जो की छात्रों के अधिकारों की बात करता है, बातचीत के माध्यम राजनीति करता है। इसी बात को लेकर में AISA से जुड़ा और आज AISA और CYSS के सांझे पैनल पर डूसू में अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ रहा हूँ! मुझे पूरा यकीन है की हम मिलकर डूसू परिसर में एक सकारात्मक राजनीति की शुरुआत करेंगे। उपाध्यक्ष पद की उम्मीदवार अंशिका सिंह ने कहा कि मैं जब कॉलेज जाती हूँ तो अक्सर छात्राओं के साथ छेड़छाड़ और बदतमीजी की घटनाएँ देखती और सुनती हूँ। कई बार देखा की जब किसी छात्रा ने आवाज़ उठाने की कोशिश की तो उसे डराया जाता है, धमकाया जाता है। हम इस बार डूसू में एक ऐसा विकल्प देने जा रहे हैं जो की महिला उत्पीडन नहीं बल्कि महिला सुरक्षा की बात करता है! हम प्रशासन से डिमांड करेंगे की महिला सुरक्षा के मद्देनज़र पुरे कैम्पस में CCTV कैमरा लगवाया जाए। प्रशासन ने जो ICC एक कमिटी बनाई है वो पूरी ईमानदारी के साथ काम करे! हम ये सुनिश्चित करेंगे की प्रशासन ने जो सैनेटरी नेपकिन वेंडिंग मशीन कैम्पस में लगाने का दावा किया है, परन्तु वो कहीं है नहीं, वो कैम्पस में लगाए जाएं।

CYSS की और से इस सांझे पैनल पर सचिव के पद पर डूसू चुनाव लड़ रहे चंद्रमणि देव, जो की पूर्वांचल से आते हैं, ने कहा मैंने कैम्पस में देखा की होस्टल यहाँ के छात्रों के लिए एक बहुत ही बड़ी परेशानी की वजह है। विद्यार्थियों की संख्या बहुत अधिक है और उसकी तुलना में हॉस्टल बहुत कम। हॉस्टल की कमी के कारण यहाँ पर कमरों की ब्लैकमेलिंग चलती है। सेटिंग से रिश्वत देकर रूम का इंतजाम कराना पड़ता है। अगर हम  डूसू पैनल में आते है तो हम लोग प्रशासन से नए हॉस्टल खौलने की मांग रखेंगे। ताकि हॉस्टल की दलाली का ये धंदा जो दशकों से कैम्पस में चल रहा है वो बंद हो, और छात्रो को सही दाम में और सुगमता से हॉस्टल में कमरे मिल सकें।

सह सचिव के पद पर इस सांझे पैनल से चुनाव लड़ रहे सन्नी तंवर ने मीडिया से कहा कि कॉलेज के हालातों के देखते हुए जब मैंने राजनीती में जाने का फैसला लिया, तो NSUI ने भी मुझसे संपर्क किया। उन्होंने कहा की तू CYSS में क्यूँ जाना चाहता है, NSUI ज्वाइन करले। मैंने कहा कि मै राजनीती करने नहीं राजनीति बदलने आया हूँ। मैंने दिल्ली में आम आदमी पार्टी के द्वारा किये गए काम देखे हैं। जिस तरह से आम आदमी पार्टी ने दिल्ली में परिवर्तन किया है, उसी तरह में उनकी छात्र विंग CYSS के साथ जुड़कर दिल्ली विश्वविद्यालय में सकारात्मक परिवर्तन के लिए संघर्ष करना चाहता हूँ।

1-अभिज्ञान (अध्यक्ष)                           बेच न. -1

2-अंशिका सिंह (उपाध्यक्ष)                       बेच न. -1

3-चंद्रमणि देव (सचिव)                          बेच न. -2

4-सन्नी तंवर (उप-सचिव)                        बेच न. 5

प्रेस वार्ता के दौरान राजा चौधरी, ये पिछली बार डूसू में अध्यक्ष पद के लिए निर्दालिये चुनाव लड़े थे, और लगभग 4 हज़ार वोट हासिल किये थे, उन्होंने मिडिया के सामने CYSS और AISA के इस सांझे पैनल को समर्थन दिया। राजा चौधरी ने कहा कि आज कैम्पस का जो हाल है, जो गुंडा गर्दी की राजनीती वहां होती है, पैसो के बल पर चुनाव लड़े जाते है, उसको ख़त्म करने की ज़रूरत है। आज छात्रो में एक डर का माहौल बना हुआ है। कोई भी छात्र विद्यार्थियों के हक़ की बात करने से डरता है। CYSS और AISA दोनों ही ऐसे छात्र विंग है जो की छात्रों के हितो की बात करते हैं। महिला सुरक्षा की बात करते है। बेहतर शिक्षा की बात करते हैं! आज डूसू को ऐसे ही एक पैनल की ज़रूरत है। राजा ने कहा कि मै CYSS और AISA के इस सांझे पैनल का समर्थन करता हूँ, और दिल्ली विश्वविद्यालय के सभी छात्रों से अपील करता हूँ, की भारी मतों से इनको जिताएं, और डूसू में एक सकारात्मक राजनीती की शुरुआत करने में अपना योगदान दें।