दिल्ली में कांग्रेस केवल वोट काटने वाली पार्टी बनकर रह गई है : दिलीप पाण्डेय

  |    January 10th, 2019   |   0

कांग्रेस के कई नेता व कार्यकर्ता हुए आम आदमी पार्टी में शामिल, दिलीप पाण्डेय ने स्वागत किया

नई दिल्ली(संवाददाता)- दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार के कामकाज से प्रभावित होकर दूसरे दलों के नेता भी माननीय अरविंद केजरीवाल को मजबूत करने के लिए साथ आ रहे हैं। जनता को समर्पित केजरीवाल सरकार का लक्ष्य सबको साथ लेकर चलने की है। आम आदमी पार्टी की इस नीति का असर विरोधी पार्टी के नेताओं पर खूब हो रहा है।

इसी कड़ी में गुरुवार को रोहतास नगर विधानसभा में एक समारोह के दौरान बड़ी संख्या में कांग्रेस के कई नेता व कार्यकर्ता आम आदमी पार्टी में शामिल हुए।लोकसभा चुनाव नजदीक आने के साथ ही उत्तर-पूर्वी दिल्ली में कांग्रेस का बिखराव शुरू हो गया है। दिल्ली सरकार के मंत्री गोपाल राय,  उत्तर-पूर्वी दिल्ली लोकसभा प्रभारी दिलीप पाण्डेय और रोहतास नगर विधायक सरिता सिंह की मौजूदगी में कांग्रेस के नेता व कार्यकर्ता आम आदमी पार्टी में शामिल हुए।

इस दौरान उपस्थित आम आदमी पार्टी के वरिष्ट नेता और उत्तर-पूर्वी दिल्ली लोकसभा प्रभारी दिलीप पाण्डेय ने सभी लोगों का स्वागत करते हुए कहा कि, अब दिल्ली में भाजपा को हराना कांग्रेस के बस की बात नहीं है। कांग्रेस पिछले चार चुनाव में बुरी तरह परास्त हुई है। उसके एक भी प्रत्याशी नहीं जीते। तीसरे नंबर पर आई और जमानत जब्त हुई। 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस कितनी भी मेहनत कर ले, एक भी सीट नहीं जीत पाएगी। लेकिन ऐसा करके वह भाजपा की मदद कर देगी। पाण्डेय के अनुसार दिल्ली की जनता और कांग्रेस के कर्मठ कार्यकर्त्ता इस बात को अच्छी तरह समझ चुके हैं। इसलिये अब बड़ी संख्या में कांग्रेस के लोग आम आदमी पार्टी में शामिल हो रहे हैं।2014 के चुनाव में कांग्रेस ने वोट काटे इसलिए भारतीय जनता पार्टी जीत गई। लेकिन 2019 में खासकर दिल्ली के लोग यह गलती नहीं करेगें। जहां दुसरे राज्यों की सियासत गाय, मजहब व अन्य चीजों के नाम पर हो रही है। वहां आम आदमी पार्टी ने कामों की लिस्ट में सबसे ऊपर बेहतर शिक्षा और स्वास्थ्य को रखा है। उन्होंने कहा, आम आदमी पार्टी ने सेहत के ऊपर काम किया, नालियां-गलियां बनवाई, बिजली और पानी फ्री कराया, प्राइवेट स्कूलों में फीस बढ़ने से रोका और अन्य कई विकास के काम किए। यह उन कामों की लिस्ट है जिसको देखकर केंद्र की सरकार और भारतीय जनता पार्टी घबराई हुई है। हमें यकीन है इन कामों को हौसला मिलेगा और आने वाले चुनाव में दिल्ली के लोग भारतीय जनता पार्टी को इसका मुंहतोड़ जवाब देगें।

वहीं मंत्री गोपाल राय ने कहा कि, आजादी की लड़ाई के दौरान राजनीति का मतलब देश के लिए कुछ देना था और धीरे-धीरे आजादी के बाद राजनीति का मतलब देश से कुछ लेना हो गया है। आम आदमी पार्टी इस देश में देने वाली राजनीति परंपरा को पुनर्जीवित करने के लिए पैदा हुई है। आंदोलन के रास्ते से धीरे-धीरे कारवा बड़ा, दिल्ली के लोगों का मोहब्बत और प्यार मिला और आम आदमी पार्टी 70 में से 67 सीट जीत गई। हिंदुस्तान में ऐसे जीत कभी किसी की किसी पार्टी को नहीं मिली। जनता के दिल में सालों साल से जो की आकांक्षाओं को दबाया गया था ये उसकी क्रांति थी।

केंद्र सरकार लाख रुकावटों के बाद भी एक ईमानदार सरकार होने के नाते आम आदमी पार्टी काम कर रही है। दिल्ली सरकार के प्रयासों से ही आज पूरे दिल्ली के अंदर ‘डोर स्टेप डिलीवरी’ शुरू हुई है। आज पूरे देश के अंदर दिल्ली की शिक्षा और स्वास्थ्य योजनाओं की चर्चा हो रही है। कोई भी राज्य शिक्षा में बदलाव के बिना आगे नहीं बढ़ सकता। पूरे हिंदुस्तान में शिक्षा के लिए सिर्फ तीन से चार परसेंट ही बजट दिया जाता है लेकिन दिल्ली सरकार 25% शिक्षा पर खर्च कर रही है। ऐसी बदलाव की क्रान्ति आम आदमी पार्टी के अलावा कोई और नहीं कर सकता है।

वहीं सुदेश चौधरी ने आम आमदी पार्टी के सभी नेता और कार्यकत्ताओं का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि, दिल्ली सरकार ने जितने भी काम किए हैं उनके कामों से प्रभावित होकर और माननीय अरविंद केजरीवाल, दिलीप पाण्डेय और आम आदमी के तमाम कार्यकर्ताओं की मेहनत को देखते हुए हैं मुझे लगा कि मुझे इस पार्टी में जुड़ना चाहिए और मैं आम आदमी पार्टी में शामिल हो गया। आम आदमी पार्टी के आते ही दिल्ली में बदलाव की क्रांति छा गई है। अच्छे स्कूल, बेहतर स्वास्थ्य, सड़क, नालियां, फ्री पानी, सस्ती बिजली और भी अनेक प्रकार के बदलाव हुए। ऐसी ईमानदार पार्टी के साथ जुड़कर मुझे बेहद खुशी है।

आज शामिल होने वालों में कांग्रेस नेता सुदेश चौधरी, बीएन कक्कर, एनपी भाटिया, अनिल गुप्ता, गंगा प्रसाद, सुमी वालिया, नरेश गुप्ता, अजय सोढ़ी सहित अन्य लोग प्रमुख हैं। आप में शामिल होने वाले कांग्रेस नेताओं ने कहा कि अरविन्द केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली सरकार काफी अच्छे काम कर रही है। अब दिल्ली के सातों सांसद भी आप के हों, ताकि केंद्र की बाधा दूर हो सके।