रेलवे के ब्यास स्टेशन को पर्यावरणीय प्रबन्धन प्रणाली के लिए मिला ISO प्रमाण-पत्र

  |    July 5th, 2019   |   0

नई दिल्ली (संवाददाता)- उत्तर रेलवे में फिरोजपुर मंडल के ब्यास स्टेशन ने अभी हाल ही में एक नया कीर्तिमान स्थापित किया। ब्यास रेलवे स्टेशन को अन्तर्राष्ट्रीय संस्था Intact  द्वारा ISO प्रमाण-पत्र से सम्मानित किया गया है।

ध्यान रहे ब्यास स्टेशन को मिले ISO प्रमाण-पत्र से पूर्व रेलयात्रियों की यात्रा को सुगम, आनन्दमयी और यादगार बनाने के लिए प्रदान की जाने वाली बुनियादी तथा विशिष्ट सेवाओं जैसे रिजर्वड लाँऊज, रिटायरिंग रूम, जलपान गृह, शुद्ध पेयजल, टिकटिंग एरिया, पूछताछ केन्द्र आदि के लिए सर्वे किया गया। इसके बाद ISO प्रमाण-पत्र से सम्मानित किया गया है।

पर्यावरणीय प्रबन्धन प्रणाली के लिए विशिष्ट इस प्रमाण-पत्र को ISO 14001: 2015 कहा जाता है। इस प्रमाण-पत्र में अपशिष्ट पदार्थों के निपटान की प्रबन्धन प्रणाली भी शामिल है। इसके तहत मंडल रेल प्रबन्धक फिरोजपुर द्वारा कचरा प्रबन्धन (Waste Management) हेतु स्टेशन प्रबन्धक सहित कुल 15 व्यक्तियों को एक विशेष ट्रेनिंग भी कराई गई है।

ब्यास रेलवे स्टेशन फिरोजपुर मंडल के अर्न्तगत केटगरी का स्टेशन है । वर्ष 2018-19 में इस स्टेशन से मात्र अनारक्षित टिकट प्रणाली द्वारा ही कुल 29,75,764 टिकटों की बिक्री की गई जिससे कुल 15,29,49,394 रूपयों की आय अर्जित हुई।

इससे पहले भी ब्यास रेलवे स्टेशन भारतीय गुणवत्ता परिषद द्वारा किये गये स्वच्छता सर्वेक्षण में भारतीय रेलवे पर तथा ए-1श्रेणियों के स्टेशनों में लगातार दो बार तथा उत्तर रेलवे पर लगातार तीन बार सबसे स्वच्छ रेलवे स्टेशन होने का गौरव प्राप्त है। इस प्रकार ब्यास रेलवे स्टेशन ने स्वच्छता के प्रतियोगी मानकों पर लगातार रिकॉर्ड बनाया है।

उत्तर रेलवे, फिरेाजपुर मंडल के अमृतसर-जलंधर सिटी सेक्शन पर स्थित ब्यास एक शांत नगर है। यह स्थान अंतर्राष्ट्रीय रूप से विख्यात राधास्वामी सत्संग ब्यास के प्रमुख केन्द्र का समीपस्थ  स्टेशन है। इस आध्यात्मिक संगठन ने रेलयात्रियों की सुविधा के लिए स्टेशन के आस-पास की भूमि पर श्रम करके उसे एक सुंदर और बेहतर पार्किंग क्षेत्र के रूप में विकसित किया । इसके अलावा स्टेशन के आस-पास फैली हुई बंजर भूमि को हरा-भरा और सुंदर बनाने में भी अपना योगदान दिया है। इस संस्था ने हमेशा ही स्टेशन की साफ-सफाई और रख-रखाव के लिए अपने स्वयंसेवकों की संवाएं उपलब्ध कराई हैं। यहाँ सेवादारों द्वारा, वृद्धों और जरूररतमंदों को अपनी सेवाएं देने के साथ-साथ रेलयात्रियों का सामान ढोने के लिए विशेष रूप से डिजाइन की हुई ट्रॉलियां भी नि:शुल्क रूप से मुहैया कराते हैं।

स्टेशन पर आने-जाने वाले यात्री स्टेशन पर साफ-सफाई के स्तर को देखकर प्रभावित हुए बिना नहीं रहते। स्टेशन के फर्श, दीवारें, सीढियां, रेलिंगें, फुट-ओवर-ब्रिज, टिकट खिड़कियां, बगीचे, पार्क, पार्किंग क्षेत्र, प्रतीक्षालय, कार्यालय, कैंटीन, वेंडिंग स्टॉल, सर्कुलेटिंग एरिया, प्रवेश और निकास द्वार सहित सभी स्थान साफ सुथरे हैं। ब्यास रेलवे स्टेशन पर आने जाने वाले लोग सामान्य व्यवहार में साफ-सफाई की आदत अंगीकार कर रहे हैं और उसके अनुसार ही व्यवहार भी कर रहे हैं।