प्रकृति संतुलन के लिए पंच ‘ज’ जल, जमीन, जंगल, जानवर और जन का होना अति आवश्यक है : वेदप्रकाश गुप्ता

  |    June 12th, 2018   |   0

नई दिल्ली (संवाददाता)- नेशनल थॉट्स के चेयरमैन वेदप्रकाश गुप्ता जी का नारा वृक्ष ज्यादा बच्चे कम – बढ़ेगा भारत बढ़ेंगे हम, आज एक मांग बन चूका है जिसे जन-जन तक पहुँचाने के लिए उन्होंने नेशनल थॉट्स का गठन किया और वृक्षारोपण के माध्यम से इसे साकार रूप प्रदान किया। आज जहाँ हम पर्यावरण संकट से जूंझ रहे हैं। जहाँ देखो वहाँ बस गंदगी ही गंदगी नज़र आती है। कहीं कूड़े के ढ़ेर लगे हुए हैं तो कहीं घरों से निकलने वाला गन्दा पानी नदियों को दूषित कर रहा है। परिवहन के साधनों ने गति तो तेज की लेकिन इनका पर्यावरण प्रदूषण बढ़ाने में सबसे बड़ा हाथ है। निरंतर पेड़ों की कटाई कर आवास निर्माण प्रकृति को असंतुलित कर रहा है। आज पर्यावरण असंतुलन के कारण हम ग्लोबल वार्मिंग को जन्म दे चुके हैं। जिससे बचने के लिए बस एक ही समाधान है। वह है अधिक से अधिक वृक्ष लगाये जाएँ। जिससे प्रकृति संतुलन में आ सके और आने वाली पीढ़ियों के लिए वातावरण और जीवन सुरक्षित हो सके।
इसी मुहीम को आगे बढ़ाने के लिए नेशनल थॉट्स द्वारा द्वितीय वृक्षारोपण समारोह गुरु नानक पब्लिक स्कूल, पंजाबी बाग, दिल्ली में मनाया गया। इस कार्यक्रम में एसडीएमसी वेस्ट के चेयरमैन कैलाश सांकला, नेशनल थॉट्स के चेयरमैन वेदप्रकाश गुप्ता, गुरु नानक पब्लिक स्कूल के चेयरमैन गुरमिंदर पाल सिंह आदि गणमान्य मौजूद रहे।
इस कार्यक्रम का मंच संचालन श्री मदन लाल भैरवा हिंदी प्रवक्ता द्वारा किया गया। साथ ही इस कार्यक्रम में नेशनल थॉट्स के संपादक रजनीकांत तिवारी, पत्रकार रंजन झा व दीपक वार्ष्णेय मौजूद रहे। इनके अलावा गुरु नानक स्कूल के विद्यार्थी व अभिभावक आदि लोगों ने कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई।
इस कार्यक्रम की शुरुवात गुरु नानक पब्लिक स्कूल के मैदान में वृक्षारोपण के साथ हुई। उसके उपरान्त स्कूल के सभागार में एसडीएमसी वेस्ट के चेयरमैन, नेशनल थॉट्स के चेयरमैन, गुरु नानक पब्लिक स्कूल के चेयरमैन द्वारा व्यक्तव दिया गया। जिसमें वृक्षों के महत्त्व को केंद्रीय बिंदु में रखा गया। उसके उपरांत गुरु नानक पब्लिक स्कूल के विद्यार्थियों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति की गयी। जिसने सभी का मन मोह लिया।
कार्यक्रम के अंत में सभी विधार्थियों और वृक्षारोपण सहयोगियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया व जलपान के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।