आम आदमी पार्टी के विधायकों और नेताओं पर चुन-चुनकर हमले किए जा रहे हैं : राघव चड्ढ़ा

  |    December 31st, 2020   |   0

नई दिल्ली (संवाददाता)- आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और राजेन्द्र नगर विधायक राघव चड्ढ़ा ने आम आदमी पार्टी के नेताओं पर भारतीय जनता पार्टी के द्वारा कराए जा रहे सुनियोजित हमलों को लेकर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की।

राघव चड्ढ़ा ने कहा कि, “जब से आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक श्री अरविंद केजरीवाल जी ने देश के किसानों की मांग को आवाज दी, उनके आंदोलन को समर्थन दिया, तब से ही लगातार आम आदमी पार्टी के नेताओं के ऊपर हमले हो रहे हैं, हमें धमकियां दी जा रही हैं, डराने धमकाने की कोशिश की जा रही है। जब से मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल जी ने दिल्ली के 9 स्टेडियमों को जेल में बदलने से इनकार किया है तब से भाजपा बौखला गई है।”

राघव चड्ढ़ा ने कहा कि, “अरविंद केजरीवाल जी ने सेवादार की भूमिका में किसानों के लिए लंगर से कंबल, पानी से शौचलय और यहां तक की फ्री WiFi का इंतजाम कराया इससे भाजपा की हमसे नाराजगी बढ़ती गई। फिर जब हमने केन्द्र के इस काले कानून को विधानसभा में फाड़ दिया तब से हमारे नेताओं पर हमले शुरू हो गए। सबसे पहले तो भाजपा ने दिल्ली पुलिस के जरिए दिल्ली के चुने हुए मुख्यमंत्री को 2 दिन के लिए घर में नजर बंद कर दिया, उसके बाद उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया जी के घर उनके गैर-मौजूदगी में दिल्ली पुलिस के संरक्षण में हमला किया गया जब घर में उप-मुख्यमंत्री जी की पत्नी और बच्चे थे, फिर दिल्ली जल बोर्ड के मेरे कार्यालय पर हमला किया, सारे फर्नीचर तोड़ डाले, शीशे तोड़ डाले, कम्यूटर-प्रिंटर तोड़ दिया, मुझे धमकी दी गई कि मैं केजरीवाल जी से कहूं कि किसानों के हक की लड़ाई बंद कर दें। दक्षिणी दिल्ली के हमारे एक कार्यकर्ता को भाजपा के लोगों ने मार-मार कर लहू-लुहान कर दिया, उसकी आंख तक फोड़ दी गई।”

कालका जी की एम.एल.ए आतिशी के घर के बाहर गाड़ियां खड़ी कर के उन्हें डराने की कोशिश पर राघव चड्ढ़ा ने कहा कि, “कल हमारी कालका जी की एम.एल.ए आतिशी के बाहर कुछ गुंडे आकर खड़े हो गए। कल उनके घर के बाहर 2 गाड़ियां देर शाम तक खड़ी रही जिनपर संसद भवन में प्रवेश के लिए लगाया जाने वाला स्टिकर लगा हुआ था। इसका मतलब है कि भाजपा के अधिकृत गुंडे उनके घर के बाहर आकर खड़े हुए थे। आम आदमी पार्टी के विधायकों और नेताओं पर चुन-चुनकर हमले किए जा रहे हैं, उन्हें डराया जा रहा है।”

राघव चड्ढ़ा ने आगे कहा कि, “दिल्ली की कानून व्यवस्था के लिए जिम्मेदार दिल्ली के पुलिस कमिश्नर से हमने मिलने का समय भी मांगा लेकिन उन्होंने अभी तक हमें मिलने का समय नहीं दिया है। चुने हुए प्रतिनिधि के तौर पर हमने दिल्ली के पुलिस कमिश्नर से मिलने का वक्त मांगा लेकिन उन्होंने मिलने का समय नहीं दिया। कालका जी की एम.एल.ए आतिशी ने भी कल उनसे मिलने का समय मांगा था लेकिन अब तक उन्हें भी मिलने का समय नहीं दिया गया। 

दिल्ली के पुलिस कमिश्नर से मुलाकात का समय ना दिए जाने पर राघव चड्ढ़ा ने कहा कि, “एक तरफ भाजपा के गुंडे हम पर शारीरिक हमले कर रहे हैं और दूसरी तरफ दिल्ली के पुलिस कमिश्नर हमसे मिल तक नहीं रहे हैं। पुलिस कमिश्नर पर भी भारतीय जनता पार्टी का दबाव है। आम आदमी पार्टी को पहली लड़ाई दिल्ली के पुलिस कमिश्नर को भाजपा के चंगुल से निकालने की लड़नी होगी। इसके लिए आने वाले समय में जल्द ही दिल्ली के उप-राज्यपाल से मिलेंगे और उनसे अपील करेंगे कि दिल्ली पुलिस को उनकी संवैधानिक जिम्मेदारी से अवगत कराया जाए।”

आम आदमी पार्टी के नेताओं पर हुए हमले की निंदा करते हुए राघव चड्ढ़ा ने कहा कि, “दिल्ली की कभी ये संस्कृति नहीं रही है, इस तरह के शारीरिक हमले जन प्रतिनिधियों पर नहीं होते हैं। दिल्ली एक ऐसा शहर है जहां तमाम राजनीतिक दलों के नेता रहते हैं, आपस में वैचारिक मतभेद होते हुए भी जब एक दूसरे से मिलते हैं तो सामान्य शिष्टाचार से मिलते हैं, भाजपा के ही दिग्गज नेता और पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी भी हमेशा इस तरह के शिष्टाचार की वकालत करते थे। आज जिस तरह के हमले भारतीय जनता पार्टी हमारे नेताओं पर करा रही है, उससे सबसे ज्यादा चोट स्वर्गीय अटल जी की आत्मा को पहुंची होगी।”

राघव चड्ढ़ा ने कहा कि, “चाहे मुख्यमंत्री निवास पर धरना हो, उप-मुख्यमंत्री के घर हुआ हमला हो या दिल्ली जल बोर्ड में मेरे कार्यालय पर हुआ हमला हो इन सभी हमलों के वक्त दिल्ली पुलिस इन सभी जगहों पर मौजूद रही लेकिन दिल्ली पुलिस इन सभी जगहों पर चुपचाप बस मूक-दर्शक बनी देखती रही। साल 2020 के इस प्रेस कॉन्फ्रेंस का अंत मैं बड़ी जिम्मेदारी के साथ ये कहते हुए कर रहा हूं कि अगर आम आदमी पार्टी के किसी भी विधायक या नेता पर कोई हमला होता है, उसे कोई चोट पहुंचती है तो उसके लिए सिर्फ भारतीय जनता पार्टी जिम्मेदारी होगी।”